Home देश 42 दिन दुल्हन के घर में रुकने का रिकॉर्ड बनाएगी झारखंड से अलीगढ़ आई बरात

42 दिन दुल्हन के घर में रुकने का रिकॉर्ड बनाएगी झारखंड से अलीगढ़ आई बरात

2 second read
0
0
291

अलीगढ़ के अतरौली कोतवाली के गांव विधीपुर में दुल्हन के घर में बरात को रुके आज 23 दिन पूरे हो गए हैं। अब लॉकडाउन की अवधि को तीन मई तक बढ़ाने की घोषणा होते ही बरातियों की बेचैनी बढ़ गई है। रेल व अन्य वाहनों के आवागमन बंद होने से अब तीन मई तक इनका यहां से निकलना मुश्किल है। 
तीन मई को बरात को यहां रुके हुए 42 दिन हो जाएंगे, जो एक रिकॉर्ड होगा। उधर दूल्हे के गांव में उसकी मां व बहन घर पर अकेली हैं। दोनों तरफ से मोबाइल फोन पर बातचीत होती है तो केवल आज कल में निकलने का आश्वासन दिया जाता है। 

तहसीलदार ऊषा सिंह ने मंगलवार को गांव में जाकर सभी बरातियों का हालचाल जाना और खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई। झारखंड के गांव वैलमी निवासी रामनाथ अपने बेटे विजय कुमार महतो की बरात लेकर 21 मार्च को विधीपुर आए थे। 

22 मार्च को विधीपुर निवासी नरपत सिंह आर्य की बेटी सावित्री आर्य के साथ आर्य समाजी तरीके से शादी सम्पन्न हुई। 21 मार्च से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद से बरात में शामिल सभी 13 लोग यहीं फंसे हैं, जिसमें दूल्हा व उसके पिता के अलावा परिवार के भाई, मौसा, बहन व बहनोई भी शामिल हैं। 

दुल्हन की भी विदाई नहीं हो सकी है। उम्मीद थी कि 14 अप्रैल को लॉकडाउन हटने के बाद बराती दुल्हन को विदा कर यहां से निकल सकेंगे, लेकिन एक बार फिर लॉकडाउन 19 दिनों के लिए बढ़ जाने से इनकी यहां से निकलने की उम्मीद टूट गई।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…