Home ताजा खबर पाक पीएम इमरान खान को टेंशन, रमजान में हालात काबू करने का दिया आदेश

पाक पीएम इमरान खान को टेंशन, रमजान में हालात काबू करने का दिया आदेश

3 second read
0
0
370

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश की एजेंसियों को रमजान के दौरान घातक कोरोना वायरस से निपटने के कारगर उपाय करने का आदेश दिया है। पाकिस्तान में कोरोना वायरस (COVID-19) के मामलों की संख्या 7,000 को पार कर गई है। वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार के प्रयासों के बावजूद कोई सुधार नहीं हुआ है।

इमरान खान ने गुरुवार को राष्ट्रीय कमान और संचालन केंद्र (एनसीओसी) की एक बैठक को संबोधित किया, जिसे महीने की शुरुआत में ही बनाया गया था। इसका गठन कोरोना वायरस से संबंधित सभी मुद्दों पर सर्वसम्मति से निर्णय लेने के लिए किया गया है।

एनसीओसी के अधिकारियों को 23 अप्रैल से शुरू होने वाले रमजान के महीने में बीमारी से लड़ने के लिए कदम उठाने के लिए कहा है। इमरान खान ने कोविड-19 रोगियों और मौतों की संख्या के बारे में सटीक डेटा उपलब्ध कराने का भी आदेश दिया है।

अधिकारियों के अनुसार पिछले दो दिनों में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़ने का कारण प्रति दिन होने वाले कोरोना टेस्ट की क्षमता बढ़ना है। उन्होंने कहा कि इस महीने के अंत तक टेस्ट क्षमता धीरे-धीरे 25 हजार प्रति दिन तक हो जाएगी।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 497 नए संक्रमणों के बाद देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 7,125 हो गई है, जबकि इस दौरान 11 लोगों की मौत भी हुई है। देश में कुल मौतों की संख्या 135 हो गई है और अबतक 1,765 लोग ठीक हो चुके हैं।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने बताया कि पंजाब पेरांत में कोरोना वायरस के 3,376 मामले, सिंध में 2,008, खैबर-पख्तूनख्वा में 993, बलूचिस्तान में 303, गिलगित-बाल्टिस्तान में 245 और गुलाम कश्मीर में 46 मामले दर्ज किए गए हैं। अब तक कुल 84,794 लोगों का टेस्ट किया गया है, जइसमें पिछले 24 घंटों में 6,264 टेस्ट भी शामिल हैं।

इस बीच, सरकार ने लोगों से आग्रह किया है कि बीमारी को फैलने से रोकने के लिए घर पर ही शुक्रवार की नमाज अदा करें। वहीं, सिंध प्रांतीय सरकार ने दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक लोगों के घरों से बाहर निकलने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है।इससे पहले कट्टरपंथी मौलवियों ने महामारी के प्रसार को रोकने के लिए सरकार के निर्देशों की अवहेलना करते हुए मस्जिदों में सामूहिक प्रार्थनाओं को फिर से शुरू करने की घोषणा की थी। सरकार वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए पांच से अधिक लोगों की प्रार्थना सभाओं पर पहले ही प्रतिबंध लगा चुकी है।

Load More By Bihar Desk
Load More In ताजा खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार को जोड़ने वाली राज्य का पहला ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के बनने का रास्ता हुआ साफ

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुरोध पर केंद्र सरकार ने इसे नेशनल हाइवे का दर्जा दे दिय…