Home देश संक्रमण रोकने के लिए उपयोगी मानी जा रही डिसइंफेक्टेंट टनल और सैनिटाइज चैंबर पर रोक, सरकार ने कहा- इसका उपयोग हो सकता है घातक

संक्रमण रोकने के लिए उपयोगी मानी जा रही डिसइंफेक्टेंट टनल और सैनिटाइज चैंबर पर रोक, सरकार ने कहा- इसका उपयोग हो सकता है घातक

8 second read
0
0
414

कोरोनावायरस के संक्रमण को रोकने के लिए उपयोगी मानी जा रही डिसइंफेक्टेंट टनल और सैनिटाइज चैंबर पर सरकार ने तुरंत प्रभाव से रोक लगा दी है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि इसका उपयोग घातक हो सकता है। इससे अन्य दूसरी बीमारियों के होने का खतरा है। डिसइंफेक्टेंट टनल और सैनिटाइज टनल के चर्चा में आने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निवास समेत कई सरकारी भवनों में इसे लगाया गया है। सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि अस्पतालों समेत जहां भी इसका उपयोग किया जा रहा है उसे तुरंत प्रभाव से बंद कर दिया जाए। 

प्रदेश के स्वास्थ्य आयुक्त फैज अहमद किदवई की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि कई संस्थाओं द्वारा डिसइंफेक्टेंट टनल और सैनिटाइज चैंबर बनाए गए हैं और लोग इसका उपयोग भी कर रहे हैं। भारत सरकार की स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, विश्व स्वास्थ्य संगठन की एडवाइजरी के मुताबिक, टनल और चैंबर में सैनिटाइज के लिए जिन केमिकल (सोडियम हाइपोक्लोराइड, अल्कोहल) का उपयोग किया जा रहा है, ये सभी मनुष्य के शरीर के लिए नुकसानदेह हैं। इन केमिकल से कपड़े और शरीर को संक्रमण से बचाने से नहीं रोका जा सकता है। 

भ्रम की स्थिति में लाेग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करते

आदेश में ये भी कहा गया है कि इन केमिकल के लगातार संपर्क में रहने से हाथ और आंखों में जलन, गले में खराश, स्किन एलर्जी, उल्टी और फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। टनल और चैंबर का उपयोग करने वाले लोग भ्रम की स्थिति के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करते। इसलिए लोग इनका उपयोग करना बंद कर दें।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…