Home विदेश वुहान डायरी की लेखिका फेंग को जान से मारने की धमकियां, वे शहर की सच्चाई दुनिया के सामने लाईं

वुहान डायरी की लेखिका फेंग को जान से मारने की धमकियां, वे शहर की सच्चाई दुनिया के सामने लाईं

7 second read
0
0
422

बीजिंग. दावा है कि कोरोनावायरस चीन के वुहान शहर से फैला। महामारी चमगादड़ों से फैली या लैब से। इस पर विवाद है। करीब एक करोड़ की आबादी वाले इस शहर को सील किए जाने के दौरान हुए घटनाक्रम को ‘वुहान डायरी’ के जरिए स्थानीय लेखिका फेंग फेंग सामने लाईं। मामला जब तक चीन में था, ठीक था। जैसे ही, वुहान डायरी दूसरे मुल्कों तक पहुंची तो फेंग को जान से मारने की धमकियां मिलने लगीं। चीन के नागरिक फेंग पर आरोप लगा रहे हैं कि उन्होंने देश को शर्मसार किया। 64 साल की फेंग इस आरोप को सिरे से खारिज करती हैं।  

23 जनवरी से 8 अप्रैल तक बेहद सख्त लॉकडाउन
वुहान में पहला मामला पिछले साल दिसंबर में सामने आया। 23 जनवरी को यहां बेहद सख्त लॉकडाउन किया गया। यह 8 अप्रैल तक चला। अब तथाकथित राहत है। इसी दौरान फेंग ने वुहान डायरी की शुरुआत की। लोगों के डर, गुस्से और छोटी आशाओं की कलम से तस्वीर उकेरी। दिल छू लेने भाषा में फेंग ने बताया- शहर की झील अब कितनी शांत हो चली है, इसका पानी कितना उदास है। फेंक ने ये भी बताया कि उनका कमरा किरणों से कैसे रोशन हो रहा है, पड़ोसी कितने मददगार हैं। 

दिक्कत कहां हुई?
फेंग जब तक रोजमर्रा की और हल्की बातों का जिक्र कर रहीं थीं, तब तक सब ठीक था। जैसे ही उन्होंने सरकारी बदइंतजामी बताई, बवाल शुरू हो गया। फेंग ने बताया- अस्पतालों में जगह नहीं है, यहां मरीज भगाए जा रहे हैं। मास्क और उपकरणों की कमी है। फेंग ने लिखा, “मुझे एक डॉक्टर दोस्त ने बताया- हमने अपने अफसर से कहा कि यह बीमारी बहुत तेजी से इंसान से इंसान में फैल रही है। लेकिन, कुछ नहीं हुआ। सब अनसुना। हर पल अनचाहा सन्नाटा।” 

अब धमकियां 
चीन में बेहद सख्त मीडिया सेंसरशिप है। कोरोनावायरस पर अमेरिका समेत कई देशों ने चीन की तरफ उंगलियां उठाना शुरू किया। इसके बाद फेंग की दिक्कतें बढ़ गईं। यहां ट्विटर की तरह वीबो प्लेटफॉर्म है। कुछ यूजर्स ने फेंग को साहसी बताया तो कुछ उन्हें देश विरोधी बता रहे हैं। आरोप लग रहा है कि फेंग ने दूसरे देशों के हाथों में चीन के खिलाफ इस्तेमाल होने वाला हथियार थमा दिया। पैसे के लिए देश के सम्मान को बेचने के लांछन भी लगे। फेंग ने हालिया इंटरव्यू में कहा- मैंने सच्चाई सामने रखी। अब मुझे जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं। 

अमेरिकी पब्लिशर के पास अधिकार
चीन के बाहर वुहान डायरी के चुनिंदा अंश ही ऑनलाइन मौजूद हैं। अमेरिकी पब्लिशर कंपनी हार्पर कॉलिन्स अब इसको किताब की शक्ल दे रही है। जून तक यह बाजार में आएगी। चीन के सरकारी अखबारों में इसका विरोध शुरू हो गया। फेंग कहती हैं, “किताब का विरोध क्यों? लोग इसे ठीक से पढ़ें। मैंने बताया है कि चीन ने इस बीमारी से कितने कारगर तरीके से निपटा। मैं किताब की रॉयल्टी कोरोना से मारे गए लोगों के परिवारों की सहायता में खर्च करूंगी।”

Load More By Bihar Desk
Load More In विदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…