Home खेल सचिन तेंदुलकर ने बताई वजह, क्यों खाली स्टेडियमों में नहीं होने चाहिए मैच

सचिन तेंदुलकर ने बताई वजह, क्यों खाली स्टेडियमों में नहीं होने चाहिए मैच

2 second read
0
0
160

जब वह क्रीज पर होते थे तो स्टेडियम में चारों तरफ से उनके नाम की गूंज सुनाई देती थी और यही वजह है कि सचिन तेंदुलकर को खाली स्टेडियमों में मैच कराने का विचार निराश कर देता है। कोविड-19 महामारी के कारण मैचों को खाली स्टेडियमों में खेलने पर विचार किया जा रहा है लेकिन इस दिग्गज बल्लेबाज के लिए यह एक विकल्प नहीं है। तेंदुलकर ने पीटीआई-भाषा से कहा कि खाली स्टेडियम खिलाड़ियों के लिए निराशाजनक होगा। ऐसे कई मौके आते हैं जबकि खिलाड़ी दर्शकों की मांग के अनुसार खेलते हैं। अगर मैं अच्छा शॉट खेलता हूं और दर्शक उसकी सराहना करते हैं तो आपको भी ऊर्जा मिलती है। 

उन्होंने कहा कि इसी तरह से एक गेंदबाज शानदार स्पैल करता है और दर्शक उस पर तालियां बजाते हैं तो इससे बल्लेबाज पर एक तरह का दबाव बनता है और उसे उससे बाहर निकलना होता है। तेंदुलकर ने कहा कि दर्शक किसी भी खेल के अहम अंग हैं। उनका उत्साहवर्धन, आपके पक्ष में या खिलाफ उठने वाला शोर खेलों में बेहद जरूरी है। तेंदुलकर शुक्रवार को 47 साल के हो जाएंगे। जनजीवन सामान्य होने के बाद क्रिकेट जगत बदली हुई परिस्थितियों से कैसे सामंजस्य बिठाएगा, इस सवाल पर तेंदुलकर ने कहा कि जहां तक (गेंद को चमकाने के लिए) लार के उपयोग का सवाल है तो खिलाड़ी कुछ समय तक सतर्क रहेंगे। यह बात उनके दिमाग में रहेगी। जब तक यह घातक वायरस रहता है तब तक सामाजिक दूरी के नियमों का अनुकरण होना चाहिए।

धोनी को लेकर बोले हरभजन,मुझे नहीं लगता वो टीम में वापसी करना चाहते हैं

तेंदुलकर ने कहा कि अपने साथियों को गले लगाने से कुछ समय के लिए बचना होगा। मैं ऐसा चाहूंगा। वे सामाजिक दूरी बनाए रख सकते हैं। यही कारण है कि वह खेल गतिविधियां शुरू करने से पहले वह पूरी तरह सामान्य स्थिति चाहते हैं। तेंदुलकर ने कहा कि आप ऐसे माहौल में खेलना चाहते हैं जो सुरक्षित हो। मेरा अब भी मानना है कि हर किसी को सतर्क रहना होगा और इससे वाकिफ होना चाहिए कि हम किस चीज से प्रभावित रहे हैं। मैं यूनिसेफ के सदभावना दूत के रूप में अच्छी स्वच्छता का महत्व ही लोगों को बताता हूं।

स्टुअर्ट ब्रॉड-जेम्स एंडरसन बोले, भविष्य में वनडे में 500 रन बने तो हैरानी नहीं होगी

तेंदुलकर को क्रिकेट देखना पसंद है चाहे वह किसी भी प्रारूप में हो लेकिन वे तभी खेल चाहते हैं जबकि बीसीसीआई और सरकार पूरी तरह से आश्वस्त हो कि खेल से जुड़े हर व्यक्ति के लिए सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि मैंने इस पर बहुत विचार किया कि यहां विश्व कप का आयोजन होना चाहिए या आईपीएल होना चाहिए। इस बारे में मैं नहीं जानता। तेंदुलकर ने कहा कि इस वायरस को हराना प्राथमिकता है और उसके बाद कई चीजों पर चर्चा की जा सकती है। अगर हम इससे पार पा जाते हैं तो ऐसी चीजों पर चर्चा करने में कोई हर्ज नहीं। तेंदुलकर इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं कि आईपीएल अक्टूबर में हो सकता है या नहीं। उन्होंने कहा कि मैं नहीं जानता कि इस समय में कितने दिन खाली मिलेंगे और क्या उस दौरान आईपीएल आयोजित हो सकता है।

Load More By Bihar Desk
Load More In खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

राज्य में शिक्षक पात्रता परीक्षा (टेट) राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) की नई गाइडलाइन मिलने के बाद ही होगी

रांची: स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग यह गाइडलाइन मिलने के बाद उसके अनुसार, नियमावली में…