Home देश सरपंचों से पीएम मोदी ने कहा- ‘कोरोना संकट आत्‍म निर्भर बनने का मौका’

सरपंचों से पीएम मोदी ने कहा- ‘कोरोना संकट आत्‍म निर्भर बनने का मौका’

6 second read
0
0
174

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पंचायती राज दिवस के मौके पर देश के सरपंचों को बधाई दी। उन्‍होंने ई स्‍वराज पोर्टल मोबाइल एप व स्‍वामित्‍व योजना का शुभारंभ करते हुए इसकी महत्‍ता बताई। साथ ही कहा कि कोरोना संकट से हमें संदेश मिलता है कि हम आत्‍मनिर्भर बनें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बातचीत शुरू करते हुए कहा, ‘पंचायती राज दिवस के मौके पर कुछ लोगों को अच्छे कार्यों के लिए सम्‍मानित किया गया है उन्‍हें और गांव की जनता को बधाई। कोरोना ने हम सभी के काम करने के तरीके को बहुत बदल दिया है। पहले हम किसी कार्यक्रम को आमने-सामने रहकर करते थे। लेकिन आज वही कार्यक्रम वीडियो कॉन्फेंसिंग के माध्यम से करना पड़ रहा है। आज इस कार्यक्रम में जुड़े सभी लोगों का मैं स्वागत करता हूं।‘ उन्‍होंने कहा, ‘मैं इस कार्यक्रम के माध्यम से एक संदेश देना चाहता हूं। कोरोना संकट ने हमें आत्मनिर्भर बनने का संदेश दिया है। बिना आत्मनिर्भर बने ऐसे संकटों से निपटना मुश्किल है। कोरोना महामारी ने हमारे लिए अनेक मुसीबतें पैदा की हैं, जिनकी हमने कभी कल्पना तक नहीं की थी।’

प्रधानमंत्री मोदी ने आत्‍मनिर्भरता पर जोर देते हुए कहा, ‘गांव अपनी मूलभूत आवश्यकताओं के लिए आत्मनिर्भर बने, जिला अपने स्तर पर, राज्य अपने स्तर पर, और इसी तरह पूरा देश कैसे आत्मनिर्भर बने, अब यह बहुत आवश्यक है।’ उन्‍होंने कहा, ‘5-6 साल पहले देश की सौ से भी कम पंचायतें ब्रॉडबैंड से जुड़ी थीं लेकिन अब सवा लाख से अधिक पंचायतों तक ब्रॉडबैंड पहुंच चुका है। इतना ही नहीं, गांवों में कॉमन सर्विस सेंटरों की संख्या भी तीन लाख के आंकड़े को पार कर गई है।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘इस कोरोना संकट ने दिखा दिया है कि देश के गांवों में रहने वाले लोगों ने इस दौरान अपने संस्कारों-अपनी परंपराओं की शिक्षा के दर्शन कराए हैं। गांवों से जो अपडेट्स आ रहा है, वो बड़े-बड़े विद्वानों के लिए भी प्रेरणा देने वाला है।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज लांच हुए एप के जरिए ग्राम पंचायतों के फंड, उसके कामकाज की पूरी जानकारी दी जाएगी। इसके माध्यम से कार्यशैली में पारदर्शिता के साथ परियोजनाओं के काम में तेजी आएगी।’ उन्‍होंने आगे कहा, ‘स्वामित्व योजना से ग्रामीणों को एक नहीं अनेक लाभ होंगे। इससे संपत्ति को लेकर भ्रम और झगड़े खत्म होंगे। इससे गांव में विकास योजनाओं की प्लानिंग में मदद मिलेगी। इससे शहरों की तरह गांवों में भी आप बैंकों से लोन ले सकेंगे।’ उन्‍होंने बताया कि देश के 6 राज्‍यों में स्‍वामित्‍व योजना की शुरुआत होगी जिसके तहत गांव की संपत्‍तियों की मैपिंग की जाएगी। गांव की एक-एक संपत्‍ति को प्रमाण पत्र मिलेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘गांव के इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए आज सरकार द्वारा दो महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट शुरू किए गए हैं। एक है ई-ग्राम स्वराज और दूसरे की विशेषता है कि उसके द्वारा हर ग्रामीण के लिए स्वामित्व योजना की शुरुआत की जाएगी।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘यह सही है कि बाधाओं के साथ परेशानियां हैं लेकिन संकल्प का सामर्थ्य दिखाते हुए देश को बचाने और आगे बढ़ाने का काम निरंतर जारी है।’ उन्‍होंने कोविड-19 का जिक्र करते हुए कहा कि इतनी बड़ी वैश्विक महामारी के संकट में 2-3 महीनों में हमने देखा कि भारत का नागरिक, सीमित संसाधनों के बीच अनेक कठिनाइयों के सामने झुकने के बजाय, उनसे लोहा ले रहा है। उन्‍होंने कहा, ‘आप सभी ने दुनिया को बहुत सरल शब्दों में मंत्र दिया है- ‘दो गज दूरी’ का, या कहें ‘दो गज देह की दूरी’ का।

इस मंत्र के पालन पर गांवों में बहुत ध्यान दिया जा रहा है।’ ये आपके ही प्रयास हैं कि आज दुनिया में चर्चा हो रही है कि कोरोना को भारत ने किस तरह जवाब दिया है।उन्‍होंने कहा, ‘कोरोना ने काम करने के तरीके बदल दिए। पहले हम एक दूसरे से आमने-सामने बातें करते थे लेकिन अब तकनीक का सहारा ले रहे हैं।’  उन्‍होंने कहा, ‘आज अनेक पंचायतों को अच्‍छे कार्यों के लिए पुरस्‍कार मिले। इन सबों को व गांव वालों को अनेक बधाई।’ पचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी इसमें शामिल हुए हैं। उन्‍होंने बताया, ‘प्रधानमंत्री मोदी आज दो कार्यक्रमों की शुरुआत करेंगे।’

पंचायती राज मंत्रालय ने इसकी जानकारी पहले ही दे दी थी। मंत्रालय ने बताया कि 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की विभिन्न ग्राम पंचायतों को वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करेंगे।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…