Home ताजा खबर लाॅकडाउन का पालन करें, नमाज और तरावीह घर पर ही अदा करें

लाॅकडाउन का पालन करें, नमाज और तरावीह घर पर ही अदा करें

8 second read
0
0
204

पटना. बिहार समेत देश के कई हिस्सों में शुक्रवार की शाम चांद देखा गया। इसलिए 25 अप्रैल यानी शनिवार से मुबारक महीना रमजान शुरू होगा। इमारत-ए-शरिया के कार्यवाहक नाजिम माैलाना शिबली अलकासमी ने कहा कि इस बार रमजान का मुबारक महीना लाॅकडाउन में शुरू हाे रहा है। इसलिए इस मुबारक माह में लाॅकडाउन का पालन करें। इस माह का राेजा हर बालिग सेहतमंद मर्द और औरत पर फर्ज है।

राेजा रखें पर लाॅकडाउन और काेराेना के बढ़ते खतरे काे कम करने के लिए घर पर ही पांचाें वक्त की नमाज, कुरआन की तिलावत और तरावीह की नमाज अदा करें। घर पर भी नमाज अदा करने के दाैरान परिवार से दूरी बनाकर रहें। उन्हाेंने कहा कि मस्जिद में केवल माेअज्जिन, पेशइमाम और मस्जिद के कर्मी नमाज अदा करें। जुमा की नमाज पढ़ने भी मस्जिद न जाएं। सरकार व प्रशासन के आदेश काे मानें। डाॅक्टर व मेडिकल स्टाफ की सलाह काे नजरअंदाज न करें।  किसी हाल में रमजान में कहीं भीड़-भाड़ न लगाएं। 

इस माह में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं 
माैलाना शिबली फरमाते हैं इस माह की अहमियत इसलिए सबसे ज्यादा है कि इसी महीने में अल्लाह तआला ने पैगम्बर मोहम्मद (सल.) पर कुरआन नाजिल (उतारा) किया। पिछले 1439 वर्षों से अधिक समय से मुसलमान भाई रोजा रखते आ रहे हैं। इस माह में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं और शैतानों को पूरे माह कैद कर दिया जाता है।

काेराेना से निजात के लिए सभी दुआ करें
माैलाना ने कहा कि राेजेदार की दुआ दाे वक्त कबूल हाेती है। एक इफ्तार के वक्त दूसरा सेहरी के वक्त। उन्हाेंने लाेगाें से अपील की है कि इन दाेनाें वक्ताें में काेराेना वायरस से निजात पाने की दुआ करें। बिहार, देश और पूरी दुनिया इस महामारी से परेशान है। अल्लाह सबकाे अपनी हिफाजत में रखें। यह महीना गुनाहाें काे माफ कराने का है। एक नफिल नमाज का सवाब फर्ज की नमाज के बराबर मिलता है।  

Load More By Bihar Desk
Load More In ताजा खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…