Home क्राइम पटना में लॉकडाउन के बीच पांडव सेना के सरगना को मारी गोली, दो घंटे बाद पहुंची पुलिस

पटना में लॉकडाउन के बीच पांडव सेना के सरगना को मारी गोली, दो घंटे बाद पहुंची पुलिस

2 second read
0
0
287

पटना । राजधानी पटना के धनरूआ थाने के नदवां बाजार रविवार की देर शाम गोलियों की तड़तड़ाहट से थर्रा उठा। वजह एक दर्जन से अधिक संगीन मामलों के आरोपित रह चुके नीमा निवासी सह पांडव सेना के सरगना संजय सिंह ( 50) को  हथियारबंद आधा दर्जन बदमाशों ने गोली मार दी। कमर में गोली लगने से वे जख्मी हो गये। बताया गया है कि खुदको घिरता देख जख्मी संजय सिंह ने लाइसेंसी पिस्टल से  फार्यंरग की। उनके अंगरक्षक ने भी गोलियां चलाईं, जिसके चलते हमलावर भाग निकले। घायल संजय को पटना ले जाया गया। घटना के पीछे अदावत को अहम कारण माना जा रहा है।  

घटना के दो घंटे बाद पहुंची पुलिस 
संजय सिंह पर उस वक्त हमला हुआ, जब वेअंगरक्षक के साथ बाइक से नदवां बाजार में सब्जी खरीदने आये थे। घटना की सूचना पर करीब दो घंटे बाद पुलिस तब मौके पर पहुंची जब इसकी सूचना सिटी एसपी पूर्वी जितेंद्र कुमार को मिली। पुलिस के पहुंचने से पहले तीन बदमाश चपौर के रास्ते,जबकि तीन पैदल ही भाग निकले। बाद में संजय सिंह के अंगरक्षक उन्हें बाइक से नीमा ले गया। वहां से संजय सिंह अपने निजी वाहन से पटना उपचार के लिये चल गये । धनरूआ व मसौढ़ी थाना समेत अनुमंडल के कई थाने की पुलिस पहुंचकर मामले की जांच में जुटी है । एसडीपीओ सोनू कुमार राय भी पहुंचे। सूत्रों की मानें तो 4 लोग हिरासत में लिए गए हैं।

फुटेज खंगाल रही पुलिस
सिटी एसपी ने बताया कि घटना स्थल के आसपास की सीमा को सील कर दिया गया है । पुलिस आसपास में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगालने में जुटी है। ताकि बदमाशों तक पहुंचा जा सके। सिटी एसपी पूर्वी जितेंद्र कुमार का कहना था कि जख्मी किस अस्पताल में गया है, पता लगाया जा रहा है। घटना के बाद से ही जख्मी का मोबाइल बंद बता रहा है। प्रथम दृष्टया पुरानी अदावत में हमले की बात सामने आ रही है। आवेदन मिलने पर उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। जल्द ही हमलावरों को गिरफ्तार कर पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा। 

अंगरक्षक ने दिखाई दिलेरी
पांडव सेना के अंगरक्षक ने खूब साहस दिखाया। उसके जवाबी फार्यंरग से डरकर हमलावर भाग खड़े हुए। वरना पेशेवर बदमाश संजर्य ंसह की हत्या कर सकते थे। आसपास के लोगों का कहना था कि पांडव सेना के सरगना रहे संजर्य ंसह के ऊपर सुनियोजित तरीके से हमला किया गया। घटनास्थल से संजर्य ंसह का घर पास ही है।

मुखबिरी करने का शक
पुलिस सूत्रों की मानें तो सटीक मुखबिरी के बाद यह घटना हुई है। संजर्य ंसह नदवां आएंगे, इसकी पूरी जानकारी बदमाशों को थी, क्योंकि जैसे नदवां पहुंचे वैसे ही रेलवे ट्रैक पर रहे बदमशों ने हमला बोल दिया। पुलिस का मानना है कि मुखबिरी करने वाला कोई  करीबी या दोस्त हो सकता है।

अपराध से मोड़ लिया था मुंह
संजय सिंह ने अपराध जगत से मुंह मोड़ लिया था। ठेकेदारी समेत अन्य कारोबार में जुट गये थे। अक्सर वे गांव नीमा में ही रहते थे । इधर, रविवार को उनके ऊपर हुये जानलेवा हमला के बाद पुन: गैंगवार छिड़ने की आशंका से इंकार नही किया जा सकता। 

Load More By Bihar Desk
Load More In क्राइम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…