Home भागलपुर स्वास्थ्यकर्मियों का विरोध, सर्वे से रोका, सेविका से किया अभद्र व्यवहार

स्वास्थ्यकर्मियों का विरोध, सर्वे से रोका, सेविका से किया अभद्र व्यवहार

0 second read
0
0
321

भागलपुर ।  देश भर में स्वास्थकर्मियों का विरोध करने या उनके कार्य में बाधा डालने के लिए कठोर कानून बनाए जाने के बाद भी लोगों का रवैया नहीं बदल रहा है। मोजाहिदपुर में स्थानीय लोगों ने सर्वे के लिए गई स्वास्थ्य विभाग की टीम को बैरंग लौटा दिया। लोगों ने उनसे आइकार्ड देखने की मांग की। इतना ही नहीं, टीम में शामिल एक सेविका के साथ अभद्र व्यवहार करने की भी सूचना है।

हंगामे की आशंका से टीम के सदस्य किसी तरह वहां से निकल गए। अब इन लोगों ने दोबारा उस मोहल्ले में जाने से इन्कार कर दिया है। पहले भी शहर के कई मोहल्लें में ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं। स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने इसे गंभीरता से लेते हुए सिविल सर्जन से सर्वे टीम को सुरक्षा देने की मांग की है।

कई मोहल्लों से टीम को लौटाया : पिछले एक सप्ताह में कई मोहल्लों से सर्वे टीम को वापस किया जा चुका है। इनमें बरहपूरा, इस्लामनगर, मोजाहिदपुर, नाथनगर, चंपानगर, मोहन मिश्र लेन के कई मोहल्ले शामिल हैं।

नवगछिया के 33 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव

कोरोना को लेकर राहत की खबर है। नवगछिया के 33 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इससे पहले रविवार को मायागंज अस्पताल के डॉक्टर सहित 158 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वहीं, सोमवार को मायागंज अस्पताल के डॉक्टर, नर्स सहित 50 लोगों के सैंपल लिए गए। सभी सैंपल को जांच के लिए पटना भेजा गया है। इनमें कोरोना पॉजिटिव पीजी छात्र की पत्नी और एक वर्ष का पुत्र भी शामिल हैं।

सैनिटाइजर टनल बंद

मायागंज अस्पताल में लगाया गया सैनिटाइजर टनल दो दिन भी नहीं चला। सोमवार को टनल बंद हो गया। नगर निगम की ओर से टनल लगाया गया था।

डायलिसिस सेंटर खुला

मायागंज अस्पताल में डायलिसिस सेंटर खोल दिया गया है। हालांकि अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यपालक निदेशक को पत्र देकर कहा है कि अस्पताल में सात डायलिसस उपकरण है। इसके अलावा और भी उपकरण की खरीद की गई है। अस्पताल में डायलिसिस मशीन की आवश्यक नहीं है। अस्पताल में बी ब्राउन डायलिसिस पीपी मोड पर चल रहा है। उसे सदर अस्पताल शिफ्ट किया जा सकता है।

सर्वे टीम मोजाहिदपुर में यह जानकारी लेने गई थी कि किसी को सर्दी-खांसी या बुखार तो नहीं है। वहां के लोग उल्टे टीम के सदस्यों से ही सवाल करने लगे। सर्वे टीम के सदस्यों की वीडियो बनाने लगे। सर्वे टीम ने वीडियो बनानी चाही तो उन लोगों ने मोबाइल बंद करने को कहा। साथ ही सेविका से मुंह से मास्क भी उतारने के लिए कहने लगे। इसके बाद किसी तरह टीम वहां से निकल भागी। रास्ते में एंबुलेंस मिली तो उसी से सदस्य सदर अस्पताल पहुंचे। सुपरवाइजर से शिकायत करने पर इसकी लिखित जानकारी देने के लिए कहा गया। टीम के सदस्य मंगलवार को लिखित शिकायत करेंगे।

Load More By Bihar Desk
Load More In भागलपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने निजी क्षेत्र में आरक्षण की मांग को दोहराया;राज्य और केंद्र को बताया दलित विरोधी

पटना:  नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर संविधान के साथ आरक्षण को भी खत्म करन…