Home झारखंड क्यों मिली शराब-पान की दुकान खोलने की मंजूरी, अर्थव्यवस्था के लिए कितनी ‘सेहतमंद’

क्यों मिली शराब-पान की दुकान खोलने की मंजूरी, अर्थव्यवस्था के लिए कितनी ‘सेहतमंद’

4 second read
0
0
287

लॉकडाउन-3 (Lockdown 3) के आदेश को देखें, तो पहले ही पेज पर देशभर में शराब-पान और गुटखा जैसे उत्पादों की दुकानों को कुछ शर्तों के साथ खोलने का आदेश दिया गया है. ये आदेश राज्य सरकारों की स्वीकृति के बाद देशभर के सभी जिलों में लागू होगा. फिर चाहे वह जिले रेड जोन में हो, ऑरेंज जोन में हों या ग्रीन जोन में. केंद्र सरकार के इस आदेश के बाद कई जगह से इसके विरोध की आवाजें भी उठ रही हैं. हालांकि इस आदेश के पहले भी कई राज्य सरकारों ने अपने राज्य में शराब की दुकानें खोलने की तैयारी कर ली थी, लेकिन अलग-अलग कारणों से उन्हें पीछे हटना पड़ा. हालांकि अब केंद्र सरकार के आदेश के बाद राज्य सरकारें 4 मई से शराब के साथ-साथ पान और गुटखा की दुकानें भी शर्तों के साथ खोल सकती हैं.सरकार ने ऐसा क्यों किया ये सवाल बड़ा है. देश और दुनिया की सरकारें इस समय कोरोना से लड़ रही हैं. सरकारों के सामने संकट ये है कि वो लोगों की जान बचाएं या अर्थव्यवस्था. इस सवाल का जवाब अगर आम नागरिक की तरह सोचें, तो जान बचानी ज्यादा जरूरी है, लेकिन जब सरकार की तरह सोचेंगे, तो जान बचाने के साथ-साथ अर्थव्यवस्था बचाना भी उतना ही जरूरी नजर आएगा. अर्थव्यवस्था का असर सीधे-सीधे हमारे जीवन पर पड़ेगा और अगर हम जिंदगी बचाने के लिए बाजार को लंबे समय तक बंद कर देते हैं तो इसका असर जीवन पर भी पड़ेगा. भारत जैसे देश में करोड़ों लोगों के रोजगार चले जाएंगे और उनके सामने भूखे मरने तक की नौबत आ सकती है. शायद यही वो कारण है कि कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामलों के बावजूद भी सरकार ने बाजार को खोलने का फैसला किया है.

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

ट्रेन यात्रियों की यात्रा को सुखद और शानदार बनाने के लिए भारतीय रेल जल्‍द ही एक बड़ा तोहफा देने की तैयारी में जुटा

रांची: रेलवे की ओर से की जा रही प्‍लानिंग पर गौर करें तो इस साल जनरल डिब्‍बों में भी यात्र…