Home सियासत मददगार जदयू नेताओं पर शीर्ष नेतृत्व की नजर, राहत पहुंचाने वालों का लिया जा रहा लेखा-जोखा

मददगार जदयू नेताओं पर शीर्ष नेतृत्व की नजर, राहत पहुंचाने वालों का लिया जा रहा लेखा-जोखा

8 second read
0
0
185

भागलपुर। कोरोना त्रासदी के बीच संकट के दौर से गुजर रहे लोगों को राहत पहुंचाने वाले जदयू नेताओं-कार्यकर्ताओं पर शीर्ष नेतृत्व की नजर है। भाजपा के संगठन की कमान संभाल रहे जेपी नड्डा जिस तरह सूबे में अपने दल के नेताओं-कार्यकर्ताओं की लॉकडाउन में गतिविधियों का हिसाब ले रहे हैं। उसी तरह जदयू का शीर्ष नेतृत्व में पीडि़त मानवता का साथ देने वाले जदयू नेताओं और कार्यकर्ताओं का लेखा-जोखा जुटाने में लगे हैं।

पार्टी सूत्रों की माने तो यह पता लगाया जा रहा है कि कौन से प्रभावशाली पार्टी नेता-कार्यकर्ता अपने प्रभाव वाले क्षेत्र में जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। उनके मदद का क्या पैमाना है। क्या वाकई उनकी मदद जरूरतमंदों तक पहुंच रही है? कच्चा राशन-पका भोजन, अभाव ग्रस्त इलाके में रहने वाली दबी-कुचली आबादी तक क्या इन नेताओं की दखल है? बताया जा रहा है कि इसके लिए शीर्ष नेतृत्व ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में कर्पूरी विचार मंच, जद-ज, समता काल से जुड़े पुराने नेताओं-कार्यकर्ताओं से मदद ली जा रही है।

भागलपुर शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में पार्टी के किन-किन नेताओं और कार्यकर्ताओं की सक्रियता बनी हुई है। संकट से गुजर रहे लोगों को कौन-कौन मदद कर रहा है। संगठन में बड़े ओहदे संभाल रहे नेताओं की भूमिका क्या है। क्या वह अपने क्षेत्र में मदद कर रहे नेताओं को अपना सहयोग दे भी रहे हैं या नहीं इसका भी लेखा-जोखा लिया जा रहा है।

शहरी क्षेत्र में जिला इकाई, महानगर इकाई के विभिन्न ओहदे संभाल रहे नेताओं की क्या भूमिका है। वे स्वयं सक्रिय हैं या नहीं। शहरी क्षेत्र में दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा-ठेला चालकों, मलिन बस्ती में उनकी पहुंच हो रही है या नहीं इसकी भी रिपोर्ट शीर्ष नेतृत्व ले रहा है। भाजपा नेताओं के वीडियो कांफ्रेंसिंग, जूम एप्प के जरिए होने वाली हालिया सक्रियता जदयू नेताओं में भी देखने को मिल रही है। अपने-अपने प्रभाव क्षेत्र में राजधानी पटना में बैठे जदयू नेता जिलों में सक्रिय कार्यकर्ताओं से संपर्क साध उनसे भी कैफियत लिया जाने लगा है।

Load More By Bihar Desk
Load More In सियासत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…