Home बड़ी खबर कोरोना पॉजिटिव मरीजों के निवास स्थान इपिसेंटर घोषित

कोरोना पॉजिटिव मरीजों के निवास स्थान इपिसेंटर घोषित

1 second read
0
0
178

मधुबनी। जिला प्रशासन को कोरोना वायरस से संबंधित 693 सैंपलों में से 620 सैंपल की रिपोर्ट मिल गई है। इसमें 602 सैंपल निगेटिव एवं 18 सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं। अब भी 73 सैंपल की रिपोर्ट का इंतजार है। बीते 27 अप्रैल को जिले में पांच व्यक्तियों के कोरोना पॉजिटिव होने का मामला सामने आया था। जबकि बीते एक मई को जिले में 13 और व्यक्तियों के कोरोना पॉजिटिव होने के मामले की पुष्टि जांच रिपोर्ट से हुई।

अनिवार्य रूप से होम क्वारंटाइन

एक मई को कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए गए सभी 13 लोगों के निवास स्थल को जिला पदाधिकारी ने इपिसेंटर घोषित कर दिया है। सभी इपिसेंटरों के तीन किमी परिधि वाले क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन भी घोषित कर पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति कर दी गई है। कंटेनमेंट जोन को सील कर दिया गया है। कंटेनमेंट जोन के अंतर्गत आने वाले सभी परिवारों के सभी सदस्यों को अनिवार्य रूप से निर्धारित अवधि तक होम क्वारंटाइन में रहना होगा।

आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया गया

तीन लेयर वाले मास्क लगाना भी अनिवार्य होगा। सभी की स्क्रीनिंग भी किया जाएगी। कंटेनमेंट जोन में आपातकालीन एवं अनिवार्य सेवा को छोड़कर सभी प्रकार के वाहनों एवं व्यक्तियों के आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों के लिए किराना सामग्री, दवा की होम डिलीवरी की व्यवस्था की जाएगी।

सील कर दिया गया

गौरतलब है कि झंझारपुर के सुखेत एवं पिपरौलिया, कलुआही के नरार, जयनगर के बरही एवं फुलकाहा तथा राजनगर के बलहा एवं शिवीपट्टी में कोरोना पॉजिटिव मिले व्यक्ति के निवास स्थल को इपिसेंटर घोषित कर उसकी तीन किमी परिधि वाले क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन भी घोषित करते हुए सील कर दिया गया है।

तीन बस में आए प्रवासी

वहीं दूसरी ओर राजस्थान के जयपुर से विशेष ट्रेन से बिहार के विभिन्न जिलों के कामगारों, मजदूरों आदि को शनिवार को पटना लाया गया। इसमें मधुबनी जिले के रहने वाले भी कई कामगार एवं मजदूर शामिल हैं। उन्हें पटना से मधुबनी लाने के लिए मधुबनी जिला प्रशासन ने शनिवार को ही तीन बसें पटना भेज दी थी। पटना से बस द्वारा मधुबनी लाने के बाद इनलोगों को संबंधित प्रखंड मुख्यालयों में बने क्वारंटाइन सेंटर में 21 दिनों तक के लिए रख दिया गया है।

एक हजार बेड का क्वारंटाइन सेंटर

बिहार से बाहर से जिले में प्रवासी मजदूर, छात्र एवं अन्य व्यक्तियों का आना प्रारंभ हो गया है। इनलोगों को प्रखंड मुख्यालय में ही 21 दिनों तक रखने के लिए डीएम ने सभी प्रखंड मुख्यालयों में एक- एक हजार बेड का क्वारंटाइन सेंटर बनाने का निर्देश दिया है। हालांकि, इससे पहले भी 17 हजार प्रवासी मधुबनी जिले में आ चुके हैं। 

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…