Home झारखंड रांची: CRPF से नहीं बनी बात, तो Lockdown के लिए कोरोना हॉटस्पॉट में पंचायती राज एक्ट लागू किया गया

रांची: CRPF से नहीं बनी बात, तो Lockdown के लिए कोरोना हॉटस्पॉट में पंचायती राज एक्ट लागू किया गया

3 second read
0
0
176

हिंदपीढ़ी में पुलिस ने पंचायती राज अधिनियम की धारा 40-एफ को लागू किया है. इसके तहत लॉकडाउन उल्लंघन होने पर पुलिस को साक्ष्य उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी वार्ड पार्षदों पर होगी.

रांची. राजधानी में कोरोना गढ़ बनकर उभरेहिंदपीढ़ी इलाके में लॉकडाउन को लागू कराने के लिए पुलिस ने अब नई रणनीति बनाई है. अब इलाके के वार्ड पार्षदों को लॉकडाउन उल्लंघन के लिए जिम्मेवार बनाया जाएगा. पुलिस ने इसके लिए पंचायती राज अधिनियम का सहारा लिया है.

हिंदपीढ़ी में पुलिस ने पंचायती राज अधिनियम की धारा 40-एफ को लागू किया है. इसके तहत लॉकडाउन उल्लंघन होने पर पुलिस को साक्ष्य उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी वार्ड पार्षदों पर होगी. लॉकडाउन का उल्लंघन होने की स्थिति में थानाप्रभारी वार्ड पार्षद को नोटिस भेजेंगे और वार्ड पार्षद उल्लंघन का साक्ष्य इकट्ठा कर पुलिस को सौपेंगे. इसके साथ ही वार्ड पार्षद लॉकडाउन उल्लंघन के स्थान का भी सत्यापन करेंगे.रांची ट्रैफिक एसपी अजित पीटर डुंगडुंग ने बताया कि हिंदपीढ़ी इलाके में दो वार्ड पार्षद हैं. अब इनके कंधे लॉकडाउन को लागू कराने की जिम्मेदारी होगी. उल्लंघन होने पर इन्हें पुलिस को साक्ष्य देने से लेकर स्थान की पुष्टि करने में मदद करनी होगी. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले पुलिस को देखते ही भाग जाते हैं. ऐसे में उनपर कार्रवाई नहीं हो पाती है. इस स्थिति को देखते हुए पंचायती राज अधिनियम का सहारा लिया गया है.

सात ड्रोन से इलाके की निगरानी 

लॉकडाउन को लागू कराने के लिए पूरे हिंदपीढ़ी पर सात ड्रोन से नजर रखी जा रही है. पुलिस के साथ-साथ सीआरपीएफ को भी तैनात किया गया. रोजाना शाम को फ्लैग मार्च निकाला जाता है. इन सबके बावजूद लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहे. पुलिस की नजर से बचकर यहां के लोग का दूसरे जिलों में जाना जारी था. ऐसे में कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए इलाके में सीआरपीएफ को उतारना पड़ा.बता दें कि झारखंड में पहला कोरोना मरीज यही मिला था. जिसके बाद यह इलाका राज्य का सबसे बड़ा कोरोना हॉटस्पॉट के रूप में उभरा है. रांची में अबतक कोरोना के 83 मामले सामने आ चुके हैं. 13 मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं, जबकि दो की मौत हो चुकी है. पूरे झारखंड में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 115 पर पहुंच गया है. इनमें से 27 ठीक हो गये. कुल तीन मरीजों की अब तक राज्य में मौत हुई है. केन्द्र की गाइडलाइन के बावजूद लॉकडाउन-3 में झारखंड सरकार ने कोई छूट नहीं दी है.

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जदयू के खिलाफ़ बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने की बयानबाज़ी, कही ये बात, पढ़ें

बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरुआत हो गई है। 30 जून तक चलने वाले सत्र में स…