Home झारखंड झारखंड में 2.52% की दर से बढ़ रहे हैं कोरोना मरीज; मृत्युदर 2.4 प्रतिशत

झारखंड में 2.52% की दर से बढ़ रहे हैं कोरोना मरीज; मृत्युदर 2.4 प्रतिशत

6 second read
0
0
111

स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने कहा कि अब तक राज्यभर से 15130 टेस्ट (Corona Test) किए गए हैं. इनमें से 99.17 प्रतिशत टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई है.

रांची. झारखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या 127 पर पहुंच गई है. हालांकि इनमें से 34 मरीज ठीक होकर घर लौट गये हैं. तीन की मौत हो चुकी है. राज्य में फिलहाल 90 पॉजिटिव केस सक्रिय हैं. स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी (Nitin Madan Kulkarni) ने कहा कि झारखंड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का ग्रोथ रेट 2.52 प्रतिशत है. अब तक राज्यभर से 15130 टेस्ट किए गए हैं. इनमें से 99.17 प्रतिशत टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई है. उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण से मृत्यु की दर 2.4 प्रतिशत है.स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि राज्य में कुल 46 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं. कंटेनमेंट जोन में 71,868 परिवार निवास करते हैं. राज्य में विभिन्न कंटेनमेंट जोन से अब तक 8 हजार 71 लोगों का सैंपल जांच किया गया है. उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों से वापस आने वाले छात्र एवं प्रवासी मजदूरों की स्वास्थ्य जांच राज्य सरकार लगातार करा रही है. स्वास्थ्य जांच को लेकर किसी प्रकार की कमी या लापरवाही नहीं बरती जा रही है. उन्होंने बताया कि 28 अप्रैल से 5 मई 2020 तक मात्र आठ नए पॉजिटिव केस आए थे. परंतु पिछले दिनों फिर यह आंकड़ा बढ़ा और एक ही दिन में 10 पॉजिटिव केस मिले. स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए राज्य में जांच में तेजी लाने के प्रयास किये जा रहे हैं. प्रत्येक जिले में कोविड-19 की जांच हो सके, इसके लिए जांच केंद्र बनाए जा रहे हैं.स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि राज्य में कुल 51935 गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार की गई है. इस सूची के अनुसार इन गर्भवती महिलाओं का मई महीने के अंत तक प्रसव होना है. उन्होंने कहा कि प्रोटोकॉल के तहत इन सभी गर्भवती महिलाओं को ससमय प्रसव से संबंधित सभी चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध हो, यह सरकार की प्राथमिकता है. 4 मई को ही राज्य सरकार ने सरकारी चिकित्सकों एवं चिकित्सा संस्थानों को निर्देश दिया गया है कि कोविड-19 के अलावा अन्य बीमारियों का भी उपचार प्राथमिकता के तौर पर किया जाए. उन्होंने विश्वास जताया कि अब मरीजों के उपचार में अस्पताल के द्वारा लापरवाही नहीं बरती जाएगी.

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार को जोड़ने वाली राज्य का पहला ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के बनने का रास्ता हुआ साफ

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुरोध पर केंद्र सरकार ने इसे नेशनल हाइवे का दर्जा दे दिय…