Home खेल हैमर थ्रो में दो अंतरराष्ट्रीय पदक दिला चुके हैं अंजनी ओझा, जानिए अन्य उपलब्धियां

हैमर थ्रो में दो अंतरराष्ट्रीय पदक दिला चुके हैं अंजनी ओझा, जानिए अन्य उपलब्धियां

0 second read
0
0
307

मुजफ्फरपुर। हैमर थ्रोअर अंजनी कुमार ओझा ने एथलेटिक्स में मुजफ्फरपुर को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई है। वे न सिर्फ आधा दर्जन से अधिक अंतरराष्ट्रीय मास्टर एथलेटिक्स प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं, बल्कि हैमर थ्रो स्पर्धा में अब तक भारत को दो अंतरराष्ट्रीय पदक भी दिला चुके हैं। पहली बार उन्होंने 2005 में बैंकाक में आयोजित टै्रक एंड फील्ड प्रतियोगिता की हैमर थ्रो स्पर्धा में रजत पदक जीता था। वहीं, 2009 में बेंगलुरु में आयोजित एशियन टै्रक एवं फील्ड में देश के लिए कांस्य पदक हासिल किया था। सितंबर 2020 में आयोजित कनाडा वल्र्ड मास्टर एथलेटिक्स प्रतियोगिता के लिए भारतीय टीम में उनका चयन हुआ है।

राष्ट्रीय स्तर पर जीत चुके कई पदक

खबड़ा गांव निवासी अंजनी कुमार ओझा राष्ट्रीय मास्टर एथलेटिक्स में 2004 से लगातार बिहार टीम का प्रतिनिधित्व कर अबतक दो स्वर्ण, चार रजत व तीन कांस्य पदक जीत चुके हैंं। उन्होंने अपने खेल जीवन की शुरुआत वर्ष 1976 में आरडीएस कॉलेज के छात्र के रूप में की थी। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की प्रतियोगिता में उन्होंने हैमर थ्रो में 43.24 मीटर का जो रिकॉर्ड बनाया अब तक विवि का कोई खिलाड़ी उसे तोड़ नहीं सका है। वे ग्यारह नेशनल एथलेटिक्स मीट में बिहार टीम का प्रतिनिधित्व कर आधा दर्जन पदक अपने नाम कर चुके हैं।

राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय मास्टर्स एथलेटिक्स में उपलब्धियां

– वर्ष 2004 में इंफाल में आयोजित ऑल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स प्रतियोगिता मे स्वर्ण पदक जीता।

– वर्ष 2005 में थाईलैंड के बैंकाक में आयोजित एशिया मास्टर्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।

– वर्ष 2006 में हैदराबाद में आयोजित ऑल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता।

– वर्ष 2007 में मलेशिया में आयोजित एशियन टै्रक एंड फील्ड प्रतियोगिता में रजत पदक जीता।

– वर्ष 2009 में मेड्रिड में आयोजित वल्र्ड मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व।

– वर्ष 2010 में बेंगलुरु में आयोजित एशियन ट्रैक एवं फील्ड मास्टर्स मीट में कांस्य पदक

राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय मास्टर्स एथलेटिक्स में उपलब्धियां

– वर्ष 2004 में इंफाल में आयोजित ऑल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स प्रतियोगिता मे स्वर्ण पदक जीता।

– वर्ष 2005 में थाईलैंड के बैंकाक में आयोजित एशिया मास्टर्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।

– वर्ष 2006 में हैदराबाद में आयोजित ऑल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता।

– वर्ष 2007 में मलेशिया में आयोजित एशियन टै्रक एंड फील्ड प्रतियोगिता में रजत पदक जीता।

– वर्ष 2009 में मेड्रिड में आयोजित वल्र्ड मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व।

– वर्ष 2010 में बेंगलुरु में आयोजित एशियन ट्रैक एवं फील्ड मास्टर्स मीट में कांस्य पदक।

– वर्ष 2013 में ब्राजील में आयोजित वल्र्ड मास्टर्स मीट में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया।

– वर्ष 2014 में जापान में आयोजित एशियन टै्रक एवं फील्ड प्रतियोगिता में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व। 

Load More By Bihar Desk
Load More In खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार को जोड़ने वाली राज्य का पहला ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के बनने का रास्ता हुआ साफ

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुरोध पर केंद्र सरकार ने इसे नेशनल हाइवे का दर्जा दे दिय…