Home देश 80 किमी लंबा धारचूला-लिपूलेख मार्ग खुला, कैलाश मानसरोवर यात्रा होगी आसान

80 किमी लंबा धारचूला-लिपूलेख मार्ग खुला, कैलाश मानसरोवर यात्रा होगी आसान

36 second read
0
0
186

नई दिल्ली। कैलाश मानसरोवर यात्रा श्रद्धालुओं के लिए पहले के मुकाबले काफी सुगम होने जा रही है। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने उत्तराखंड में धारचूला-लिपूलेख मार्ग का निर्माण किया है, जिससे यात्रा में समय भी कम लगेगा, क्योंकि लोगों को कठिन रास्ते पर सफर नहीं करना पड़ेगा।  

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज इस मार्ग का उद्घाटन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया है। बीआरओ ने 80 किलोमीटर की इस सड़क से धारचूला को लिपुलेख से जोड़ा है। यह विस्तार 6000 से 17060 फीट की ऊंचाई पर है। नई सड़क पिथौरागढ़-तवाघाट-घटीअबागढ़ मार्ग का विस्तार है।

जानकारी देने वाले एक अधिकारी ने कहा, ”लिपूलेख रूट 90 किलोमीटर का ऊंचाई वाला ट्रैक था। अधिक उम्र के यात्रियों को यहां बहुत मुश्किल होती थी। अब यह यात्रा वाहनों से की जा सकती है। लोगों को अब 5-6 दिन तक चढ़ाई करने की जरूरत नहीं है।” यात्रा के लिए दो रूट हैं। एक लिपुलेख से और दूसरा सिक्किम में नाथुला से। 

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ”मानसरोवर यात्रा के लिए आज एक लिंक रोड का उद्घाटन करके खुशी हुई। बीआरओ ने धारचूला से लिपूलेख (चीन बॉर्डर) को जोड़ने की उपलब्धि हासिल की है, इसे कैलाश मानसरोवर यात्रा रूट के नाम से जाना जाता है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाहनों के एक जत्थे को पिथौरागढ़ से गुंजी के लिए रवाना किया।”
 
बीआरओ के बधाई देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि संगठन ने पिछले कुछ सालों में सीमांत इलाकों को जोड़ने का बेहतरीन काम किया है। बीआरओ चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने कहा कि अधिक ऊंचाई, भारी बर्फबारी और साल में केवल 5 महीने काम करने लायक होने की वजह से इस सड़क का निर्माण बहुत चुनौतीपूर्ण था। 

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तेज प्रताप और ऐश्वर्या राय की आज मुलाकात, तलाक की बात पर होगी चर्चा ! पढ़ें

ऐश्वर्या राय के तलाक के मुकदमे में आज अहम सुनवाई का दिन है। आज दोनों के बीच मुलाकात होगी। …