Home विदेश लॉकडाउन में ढील देने वाले देशों को डब्‍ल्‍यूएचओ की चेतावनी, कहा- रखें सावधानी

लॉकडाउन में ढील देने वाले देशों को डब्‍ल्‍यूएचओ की चेतावनी, कहा- रखें सावधानी

0 second read
0
0
158

जिनेवा। डब्ल्यूएचओ ने भारत समेत कुछ अन्य देशों में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता व्यक्त की है। इसके साथ ही डब्‍ल्‍यूएचओ ने ये भी कहा है कि लॉकडाउन में ढील देते समय सरकारों को सावधानी बरतनी चाहिए। स्वास्थ्य आपदा कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल जे. रेयान ने कहा कि कुछ देशों में जहां नए मामले बढ़ रहे हैं वहीं कुछ देशों में कम हो रहे हैं। संख्या के साथ ही उन देशों में इस महामारी से आने वाले खतरे को देखते हुए वह भारत, रूस, बंगलादेश, अफगानिस्तान, सूडान, फिलिस्तीन, यमन जैसे देशों व दक्षिण और मध्य अमेरिका जैसे क्षेत्रों को लेकर चिंतित हैं। वहीं दूसरी तरफ यूनिसेफ ने एक रिपोर्ट में आशंका जताई गई है कि आने वाली पीढ़ी पर भी इसका बुरा असर दिखाई दे सकता है।

संगठन ने कहा है कि 11 मार्च से 16 दिसंबर 2020 के बीच दुनिया में 11.6 करोड़ बच्चे जन्म लेंगे। इसमें सर्वाधिक दो करोड़ 41 लाख बच्चे भारत में पैदा होंगे। इसके अलावा चीन, नाइजीरिया, पाकिस्तान और इंडोनेशिया में भी काफी संख्‍या में बच्‍चे पैदा होंगे। ऐसे में इन बच्‍चों पर कोरोना के संकट का साया भी होगा। आपको बता दें कि 11 मार्च को ही डब्‍ल्‍यूएच ने कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित किया था। लांसेट की रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना से अब तक करीब 90 फीसदी मौतें समृद्ध देशों में हुई हैं। अगर चीन, ब्राजील और ईरान को भी जोड़ लिया जाए तो 96 फीसदी मरने वाले इन मुल्कों के रहने वाले थे। इन आंकड़ों की सबसे खास बात ये है कि इन देशों मं स्वास्थ्य सुविधाएं दूसरे देशों के मुकाबले कहीं ज्यादा थीं। लेकिन, इसके बावजूद यहां पर कोरोना की वजह से सर्वाधिक मौतें हुईं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ मानते हैं कि अमीर देशों के लोगों की जीवनशैली में प्रतिरोधक क्षमता कम होती है।

भारत, अमेरिका, जर्मनी और दक्षिण कोरिया समेत कई देश गरीब मुल्कों में स्वास्थ्य सुविधाएं भेज रहे हैं लेकिन यह बेहद कम है। आईएमएफ ने अफगानिस्तान, ताजिकिस्तान समेत दुनिया के 25 गरीब देशों को कर्ज में बड़ी राहत दी है ताकि वे फंड जुटा सकें। अफ्रीकी महाद्वीप के 54 में से 52 देशों में संक्रमण फैल चुका है। नाइजीरिया, अल्जीरिया, बुल्गारिया, इजिप्ट, इक्वाडोर, रोमानिया, सर्विया समेत कई देशों में मामले अचानक बढ़े हैं। एशियाई देशों में भी पाकिस्तान, अफगानिस्तान, तंजानिया, उज्बेकिस्तान में रफ्तार काफी तेज है। डब्ल्यूएचओ ने चेताया है कि अगर नहीं संभाला गया तो हालात खतरनाक हो सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय ऑर्जेनाइजेशन फॉर माइग्रेशन के मुताबिक, अफगानिस्तान समेत कई देशों में 80 फीसदी तक लोगों के संक्रमण की चपेट में आने का डर है।

Load More By Bihar Desk
Load More In विदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बिहार के इस बच्चे की बॉलीवुड एक्ट्रेस गौहर खान करेंगी मदत, पढ़ें

छठी क्लास में पढ़ने वाले 11 साल के सोनू कुमार ने हाल ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार के सामने…