Home झारखंड Lockdown 3.0: PDS दुकानदार के खिलाफ सड़क पर उतरा पूरा गांव, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ीं धज्जियां

Lockdown 3.0: PDS दुकानदार के खिलाफ सड़क पर उतरा पूरा गांव, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ीं धज्जियां

1 second read
0
0
90

दुमका. पूरी दुनिया कोरोना वायरस की भीषण चपेट में है. इसके संक्रमण को फैलने से रोकने में सोशल डिस्टेंसिंग रामबाण साबित हो रही है. करीब डेढ़ महीने से देश लॉकडाउन में है. इसके बावजूद उपराजधानी दुमका में पीडीएस दुकानदार का लाइसेंस रद्द करने की मांग को लेकर सैकड़ों ग्रामीण (Villagers) सड़क पर उतर गए. सदर प्रखंड के सामबेहरी गांव में लोगों ने लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ायीं. इस दौरान तीन घंटे तक सड़क पर हाई वोल्टेज ड्रामा (Protest) चलता रहा.लोगों का आक्रोश पीडीएस दुकानदार सागेन मुर्मू के खिलाफ था. ग्रामीणों का आरोप है कि प्राकृतिक आपदा की इस घड़ी में भी पीडीएस दुकानदार निर्धारित मानक के अनुरूप खाद्यान्न नहीं दे रहा है, बल्कि लाभुक को कम अनाज दे रहा है. प्रदर्शन में शामिल नमिता सोरेन ने बताया कि इस बाबत कई बार पीडीएस दुकानदार को कहा गया कि सरकार द्वारा निर्धारित मानक के अनुरूप खाद्यान का वितरण करें, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा. अंत में ग्रामीणों को सड़क पर उतरना पड़ा.नगाड़े की थाप पर ग्रामीणों को एकत्रित किया गया और पीडीएस दुकानदार के खिलाफ बैठक हुई. सर्वसम्मति से पीडीएस दुकानदार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. लोग सड़क पर बैठ गए. सूचना मिलते ही मुफस्सिल थाने की पुलिस गांव पहुंची. पुलिस द्वारा काफी समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन लोग पीडीएस दुकानदार का लाइसेंस रद्द करने की मांग पर अड़े रहे. मामला आपूर्ति विभाग से संबंधित था, पुलिस ने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को भी गांव बुलाया. ग्रामीणों ने डीसी के नाम बीएमओ को आवेदन दिया जिसमें पीडीएस दुकानदार पर लाइसेंस रद्द करते हुए कार्यवाई की मांग की गयी. बीएमओ ने कार्रवाई का भरोसा दिलाया. तब जाकर ग्रामीण शांत हुए. इस सबके बीच कोरोना बंदी और सोसल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती रहीं.

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…