Home झारखंड खेती में नुकसान, बैंक लोन की चिंता, डिप्रेशन में 24 साल के युवा किसान ने दे दी जान

खेती में नुकसान, बैंक लोन की चिंता, डिप्रेशन में 24 साल के युवा किसान ने दे दी जान

3 second read
0
0
52

गुमला. जिले के भरनो थानाक्षेत्र के दुम्बो कंसीटोली गांव में 24 साल के युवा किसान (Farmer) प्रदीप उरांव ने खुदकुशी (Suicide) कर ली. एतवा उरांव के बेटे प्रदीप की लाश दुम्बो स्कूल के समीप पेड़ से लटकी मिली. गांववालों के मुताबिक उसने शुक्रवार रात रस्सी के सहारे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतक खेतीबाड़ी कर परिवार का भरण पोषण करता था. पिता एतवा उरांव और ग्रामीणों के मुताबिक आर्थिक तंगी (Financial Crisis) के चलते प्रदीप ने अपनी जान दे दी.प्रदीप प्राइवेट बैंक से 30 हजार रुपये ऋण लेकर फ्रेंचबिन की खेती की थी. लेकिन ओलावृष्टि के चलते खेती नष्ट हो गयी. कुछ उपज हुई भी, तो लॉकडाउन के कारण उसे बाजार नहीं मिला. परिवारवालों के मुताबिक बैंक के कर्ज को लेकर प्रदीप कुछ दिनों से काफी परेशान चल रहा था. शुक्रवार की रात जब खाना-पीना खाकर घर के लोग सोने चले गये, तब प्रदीप आंगन के कुएं की रस्सी लेकर घर से सौ मीटर दूर दुम्बो स्कूल के पास पेड़ में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. सुबह गांव के कुछ बच्चे बगीचा की ओर गये तो उसका शव देखा. जिसके बाद बच्चों ने ग्रामीणों और पंचायत के मुखिया को इसकी जानकारी दी.मुखिया की सूचना पर भरनो पुलिस मौके पर पहुंचकर शव को पेड़ से उतारा और पोस्टमार्टम के लिये सदर अस्पताल भेज दिया. पुलिस ने घटना को लेकर यूडी केस दर्ज किया है. पुलिस पदाधिकारी अनिल गुप्ता ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि एक युवक का शव पेड़ से लटका हुआ है. पुलिस मौके पर पहुंची और शव को उतारा तो उसकी पहचान प्रदीप उरांव के रूप में हुई. मामले में आगे की छानबीन जारी है.मृतक के पिता एतवा उरांव ने बताया कि रात में खाना खाने के बाद प्रदीप घर से निकला. लेकिन लौटा नहीं. सुबह उसकी आत्महत्या करने की जानकारी मिली. पिता ने बताया कि सब्जी की खेती में नुकसान होने के कारण वह काफी परेशान चल रहा था. इसी परेशानी के कारण उसने आत्महत्या कर ली.

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड के धनबाद जिला अंतर्गत आमाघाटा मौजा में 30 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के बेनामी जमीन का हुआ खुलासा

धनबाद : 10 एकड़ से अधिक भूखंड का कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है. बाजार दर से इस जमीन की क…