Home बड़ी खबर कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद दुकानें खुलेंगी या नहीं

कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद दुकानें खुलेंगी या नहीं

0 second read
0
0
143

मुजफ्फरपुर। एक साथ तीन कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद जिले के लोग संशय की स्थिति में हैं। यूं तो आज रविवार होने की वजह से आवश्य वस्तुओं की दुकानों को छोड़कर सभी दुकानें हैं लेकिन, प्रशासन ने हाल में जो छूट दी थी वह अभी वापस नहीं ली गई है। इसका मतलब यह कि सोमवार से शनिवार के बीच पूर्ववत सभी दुकानें खुलेंगी। हां, सुरक्षा मानकों और शारीरिक दूरी का खास ख्याल रखा जाएगा। मास्क पहनना अनिवार्य होगा। इस बारे में डीएम डाॅ चंद्रशेखर सिंह ने खुद स्थिति स्पष्ट की है।

सील करने की जरूरत नहीं

डीएम ने कहा कि क्वारंटाइन कैंप में रहने वाले इन तीन लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जबकि इनमें किसी तरह का कोई लक्षण नहीं है। इन्हें कोविड केयर केंद्र में शिफ्ट कराने का निर्देश दिया गया है। डीएम ने कहा कि अगर किसी टोले या मोहल्ले में पोजेटिव मरीज मिलता तो कंटेंमेंट जोन बनाकर सील किया जाता। लेकिन, अभी नौबत नहीं है। अगर आगे ऐसी नौबत आएगी तो सूचित कर सील किया जाएगा।

विशेष रणनीति तैयार की गई

जिले में कोरोना के पॉजिटिव मामले सामने आने के बाद सुरक्षा के मद्देनजर विशेष रणनीति तैयार की गई है। इसके तहत रेड जोन जिले से आने वाले लोगों को अलग क्वारंटाइन किया जाएगा। डीएम डॉ चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि रेड जोन जिले से आने वालों को अलग क्वारंटाइन कैंप में रखा जाएगा। इसी तरह ग्रीन और ऑरेंज जिले वालों के अलग रहने की व्यवस्था होगी। इनलोगों की लगातार सैंपलिंग लेकर जांच कराई जाएगी।

पहचान बताने वालों पर होगी कार्रवाई

प्रशासन की ओर से कहा गया है कि सोशल मीडिया सहित किसी भी मीडिया पर कोरोना प्रभावित या उससे संबंधित चिकित्सक आदि की पहचान बताने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए प्रशासन की ओर से साइबर सेल का गठन किया गया है।

पुलिस व प्रशासन की कड़ी नजर

डीपीआरओ कमल सिंह ने कहा कि सोशल मीडिया पर अफवाह व भय फैलाने वालों पर साइबर सेल, जिले की पुलिस व प्रशासन की कड़ी नजर है। कोरोना प्रभावित व्यक्ति की सुरक्षा और उसके रिश्तेदारों, उपचारकर्ता, चिकित्सा कर्मी की सहायता करना इस विकट समय में जिला प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। प्रभावित व्यक्ति से संबंधित जानकारी की गोपनीयता, उसके रिश्तेदार, डॉक्टरों का इलाज करना, चिकित्सा कर्मियों की सहायता करना और व्यक्ति व रिश्तेदारों के आवासीय पते को गोपनीय रखा जाना अत्यंत जरूरी है। उपरोक्त प्रावधानों के तहत किसी भी नियम या आदेश का उल्लंघन करने वालों पर कानूनी कार्रवाई होगी।  

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बिहार में बिजली गिरने से 16 की मौत, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोक

बिजली गिरने से प्रदेश के सात जिलों में 16 लोगों की मौत पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा …