Home खेल एमएस धौनी की सीएसके ने कहा- बिना विदेशी खिलाड़ियों के नहीं खेलेंगे आइपीएल

एमएस धौनी की सीएसके ने कहा- बिना विदेशी खिलाड़ियों के नहीं खेलेंगे आइपीएल

2 second read
0
0
239

नई दिल्ली । IPL 2020 के होने का इंतजार हर क्रिकेट प्रेमी को है, लेकिन ऐसा कब हो पाएगा ये इस वक्त तो नहीं कहा जा सकता। कोविड 19 महामारी की वजह से इस लीग को फिलहाल के लिए स्थगित किया गया है और वो तमाम विकल्प तलाशे जा रहे हैं जिसके साथ इस लीग का आयोजन किया जा सकता है। कयास तो ये भी लगाए जा रहे हैं कि अगर मौजूदा स्थिति में सुधार होती है तो इस लीग को बिना विदेशी खिलाड़ियों के यानी सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के साथ भी खेला जा सकता है। हालांकि एमएस धौनी की टीम सीएसके ने साफ कर दिया है कि वो बिना विदेशी खिलाड़ियों के आइपीएल में नहीं खेलेंगे। 

चेन्नई सुपर किंग्स ने राजस्थान रॉयल्स के उस विचार को सिरे से खारिज कर दिया जिसमें कहा गया कि सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के साथ भी लीग का आयोजन किया जा सकता है। सीएसके ने कहा कि अगर सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के साथ ये टूर्नामेंट खेला जाता है तो ये घरेलू टी20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली जैसा होकर रह जाएगा। हालांकि ये भी कहा जा रहा है कि अगर ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप का आयोजन अगर तय वक्त पर नहीं हो पाता है तो इस लीग को सितंबर-अक्टूबर में खेला जा सकता है। 

सीएसके से जुड़े एक सूत्र ने पीटीआइ से बात करते हुए कहा कि सीएसके सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के साथ आइपीएल के आयोजन के पक्ष में नहीं है। अगर बिना विदेशी खिलाड़ी के इस लीग का आयोजन किया जाता है तो ऐसा लगेगा जैसे कि हम एक और सैयद मुश्ताक अली टी 20 टूर्नामेंट खेल रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि इस साल के आखिर में शायद इस लीग का आयोजन हो पाए। 

आपको बता दें कि पिछले दिनों राजस्थान रॉयल्स के कार्यकारी अध्यक्ष रंजीत बारठाकुर ने कहा था कि उनकी फ्रेंचाइजी सिर्फ भारतीय खिलाड़ी और कम मैचों के साथ भी आइपीएल के पक्ष में है। उन्होंने कहा था कि पहले हम सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के दम पर आइपीएल का आयोजन करने के बारे में सोच भी नहीं सकते थे, लेकिन अब वक्त बदल गया है और हमारे पास विकल्प की कमी नहीं है। वहीं बीसीसीआइ की तरफ से कहा गया था कि अगर लीग का आयोजन नहीं किया गया तो हमें इससे 4000 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। 

Load More By Bihar Desk
Load More In खेल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सीएम नीतीश ने अधिकारियों और जिलाधिकारियो को दिया आदेश, कही ये बात, पढ़ें

मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में करीब साढ़े पांच घंटे तक समीक्षा बैठक चली। मुख्यमंत्री …