Home बड़ी खबर शेखपुरा से रूपसपुर मोड़ तक पूरा इलाका सील, बेली रोड पर भी सख्ती

शेखपुरा से रूपसपुर मोड़ तक पूरा इलाका सील, बेली रोड पर भी सख्ती

1 second read
0
0
23

पटना । कोरोना संक्रमितों के मामले में बिहार की राजधानी पटना टॉप पर चली गई है। 165 मामलों में सबसे अधिक 48 बिहार मिलिट्री पुलिस (बीएमपी) से हैं। यहां 48 जवान संक्रमित हो चुके हैं। ऐसे में खाजपुरा स्थित बीएमपी कैंपस रेड जोन बन गया है। बीएमपी कैंपस में कोरोना संक्रमित की संख्या बढ़ने के बाद सभी जवान सतर्क हो गए हैं। आवश्यक काम वालों को ही बाहर जाने दिया जा रहा है।

बीएमपी कैंपस गेट पर ही आने-जाने वालों से सख्ती से पूछताछ की जा रही है। बीएमपी-14 में सिर्फ 40 जवान हैं, जिन्हें क्वारंटाइन किया गया है। जबकि 400 जवानों को शास्त्रीनगर और बीएमपी के पास मौजूद हाईस्कूल में रखा जा रहा है। वहीं खाजपुरा में शेखपुरा से रूपसपुर मोड़ तक पूरा इलाका सील किया गया है। दुकानें भी नहीं खुल रही हैं। आशियाना मोड़ से रुपसपुर मोड़ तक बेली रोड पर बैरिकेडिंग की गई है। खेमनीचक के शिवनगर रोड नंबर दो की गली सील है, जबकि बाहर दुकानें खुल रही हैं। राजीव नगर का मौर्य पथ, जक्कनपुर, न्यू पाटलिपुत्र, पटेल नगर, मछली गली, दुर्गा आश्रम में गली को अभी भी सील किया गया है।

सेवानिवृत्त के संक्रमित आने से शुरू हुई थी चेन की शुरुआत

बैरक में सात मई को सेवानिवृत्त जवान संक्रमित पाया गया था। इसके बाद अगले दिन चौक चौराहों पर तैनात बीएमपी के जवानों को जांच के लिए वापस नहीं बुलाया गया। जब वहां संक्रमितों की संख्या बढ़ी तो जिला बल में प्रतिनियुक्त जवानों को जांच के लिए बुलाया गया, जो शहर के चौक चौराहों पर तैनात थे।

नर्स के संक्रमण की बात छिपाने से स्वास्थ्यकर्मियों में आक्रोश

इंदिरा गांधी हृदय रोग संस्थान के दूसरे तल स्थित अस्थायी पेसमेकर यूनिट और इमरजेंसी के कर्मचारी कोरोना संक्रमण की आशंका से दहशत में हैं। उनका कहना है कि नर्स शुक्रवार को भी अस्पताल आई थी लेकिन गुरुवार रात पति की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद भी उसने किसी को इसकी जानकारी नहीं दी। उसने पूर्व की भांति न केवल सबके साथ काम करते हुए बातचीत की बल्कि डॉक्टर्स रूम में पड़े बेड पर जाकर आराम भी किया था। हालांकि, निदेशक डॉ. अर¨वद ने सभी जगहों को रविवार के बाद सोमवार को भी सैनिटाइज कराया है। कर्मियों के स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है।

एक और नर्स क्वारंटाइनआइजीआइएमएस में स्त्री एवं प्रसूति विभाग के नर्स की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उससे जुड़े विभाग की एक और नर्स को क्वरंटाइन किया गया। चिकित्सा अधीक्षक ने बताया कि कम्युनिटी मेडिसीन विभाग की टीम उसकी चेन पता लगाने के लिए कार्य कर रही है।

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार को जोड़ने वाली राज्य का पहला ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के बनने का रास्ता हुआ साफ

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुरोध पर केंद्र सरकार ने इसे नेशनल हाइवे का दर्जा दे दिय…