Home बड़ी खबर कोरोना की भेंट चढ़ीं खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की तालियां

कोरोना की भेंट चढ़ीं खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की तालियां

1 second read
0
0
24

गया। अपने गमों को आंचल में छिपाकर दूसरों की खुशियों में अपनी खुशी ढूंढने वाले किन्नरों (थर्ड जेंडर) पर भी कोरोना ने कहर ढाया है। कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन हुआ तो इनकी आजीविका भी लॉक हो गई है। इसी के साथ हर खुशी के मौके पर बजने वालीं तालियां भी खामोश हैं। लॉकडाउन लंबा खिंचा तो समाज में अलग पहचान रखने वाले इन थर्ड जेंडरों के समक्ष बड़ा संकट आसन्न है। पहले से बचा कर रखी कमाई के भरोसे ये गुजारा कर रहे हैं। हालांकि सरकार ने इन्हें गेहूं-चावल दिया है, बावजूद इसके रोजमर्रा की चीजों के लिए ये परेशानी झेल रहे हैं। अखिल भारतीय किन्नर सदाबहार विकास समिति के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष और गया निवासी सुरेश किन्नर इस विशेष ताली को भगवान की आवाज बताते हैं। वह कहते हैं, किन्नरों की ताली दूसरों के लिए दुआ बनती है।

बच्चों के जन्म के बाद दरवाजे पर पहुंच बधाई मांगने वाले पन होते हैं। वह बताते हैं, राजगद्दी वाले थर्ड जेंडर ही बधाई मांगने का काम करते हैं। गया प्रमंडल में इनकी संख्या 10 है। इसके अलावा ट्रेनों में जो थर्ड जेंडर मांगते हैं, वे फकीरी गद्दी वाले कहलाते हैं। गया में इनकी संख्या पांच है। सुरेश किन्नर सबको घरों पर रहकर सुरक्षित रहने की सलाह देते हैं। वह घूमकर इसके लिए जागरूकता भी लाते हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णय को सराहते हैं। राज्य सरकार समझे किन्नरों की तकलीफें, दे सहायता : -गया शहर में खरखुरा के सुनीता किन्नर व बैहरी किन्नर और ट्रेन में मांगने वाली पूजा किन्नर व चंचला किन्नर की मांग है कि सरकार उनकी तकलीफों को समझे। रहने को घर दिया जाए। कोषाध्यक्ष सुरेश किन्नर ने कहा, आठ किन्नरों का अब तक राशनकार्ड नहीं बना है, इसे बनवाया जाए। इसके अलावा उन्हें जमीन उपलब्ध कराकर मकान बनाने के लिए रुपये दिए जाएं। साथ ही सुरेश किन्नर ने इन सबको नौकरी देने की मांग की। वह चाहे चतुर्थवर्गीय श्रेणी की ही क्यों न हो।

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बिहार में जल्द ही दे सकता है मानसून दस्तक, पढ़ें और जाने

मंगलवार को पटना समेत प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में हुई बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की …