Home बड़ी खबर बिहार के जर्दालू आम व शाही लीची की होगी होम डिलीवरी, वह भी बिल्‍कुल फ्री… जानें क्‍या है शर्त…

बिहार के जर्दालू आम व शाही लीची की होगी होम डिलीवरी, वह भी बिल्‍कुल फ्री… जानें क्‍या है शर्त…

1 second read
0
0
25

पटना । काेरोना संकट व लॉकडाउन के इस संकट काल में घरों से बाहर निकलना किसी खतरे से कम नहीं है। ऐसे में लोग घरों में रहना पसंद कर रहे हैं। बाजार भी जाने से लोग परहेज कर रहे हैं। आम और लीची के इस सीजन में ऐसे लाेग टेंशन में हैं। लेकिन सरकार ने इनकी टेंशन दूर कर दी है। घर बैठे लोग भी अब जर्दालू आम व शाही लीची की मिठास का आनंद ले सकते हैं। बिहार सरकार ने जर्दालू आम व शाही लीची की हाेम डिलीवरी कराने का फैसला लिया है, वो भी बिल्‍कुल फ्री। 

कृषि विभाग के उद्यान निदेशालय द्वारा बागों में ताजा एवं प्राकृतिक रूप से पके जर्दालू आम एवं शाही लीची की होम डिलीवरी कराई जाएगी। इसके लिए अलग से कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा। कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि कोरोना के चलते बदले हुए हालात में किसानों एवं उपभोक्ताओं के हित में यह फैसला लिया गया है। अभी पायलट प्रोजेक्ट के तहत तीन शहरों में शुरू किया जा रहा है। प्रयोग सफल रहा तो अगले मौसम से सभी जिलों में शुरू होगा। दोनों फलों को जीआई टैग प्राप्त है। 

इच्छुक उपभोक्ता मुजफ्फरपुर की शाही लीची के लिए 25 मई से 15 जून तक तथा भागलपुर के जर्दालू आम के लिए एक जून से 20 जून तक उद्यान निदेशालय की वेबसाइट पर ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं। उद्यान निदेशालय द्वारा शाही लीची एवं जर्दालू आम की ऑनलाइन बिक्री डाक विभाग के माध्यम से मुजफ्फरपुर, भागलपुर एवं पटना के शहरी इलाकों के उपभोक्ताओं के घर तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई है। 

कृषि मंत्री ने कहा कि शाही लीची की ऑनलाइन खरीदारी मुजफ्फरपुर एवं पटना के शहरी उपभोक्ता कर सकते हैं। इसी तरह, जर्दालू आम की खरीदारी भागलपुर एवं पटना के शहरी उपभोक्ता कर सकते हैं। फलों के घर तक पहुंचने के बाद ही पैसे का भुगतान पीओएस मशीन या कैश के रूप में किया जा सकता है। लीची दो किलो एवं जर्दालू आम पांच किलो के पैक में होगा। पार्सल के जरिए घर तक पहुंचाने में आए खर्च का वहन संबंधित कृषक उत्पादक संगठन द्वारा किया जाएगा। फ्री होम डिलीवरी के लिए लीची न्यूनतम दो किलो एवं आम पांच किलो का ऑर्डर देना होगा। 

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सीएम नीतीश ने अधिकारियों और जिलाधिकारियो को दिया आदेश, कही ये बात, पढ़ें

मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में करीब साढ़े पांच घंटे तक समीक्षा बैठक चली। मुख्यमंत्री …