Home बड़ी खबर अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजो…बिहार की इस बेटी ने पिता को साइकिल पर बैठा नाप दी 1200 किलोमीटर की दूरी

अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजो…बिहार की इस बेटी ने पिता को साइकिल पर बैठा नाप दी 1200 किलोमीटर की दूरी

13 second read
0
0
234

दरभंगा । बिहार के एक छोटे से गांव की बेटी दरभंगा के ज्योति कुमारी की हौसले की चर्चा आज हर जगह हो रही है। देश ही नहीं विदेश में भी, यहां तक की अब अमेरिका भी पहुंच गई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने बिहार के दरभंगा जिले के सिरहुल्ली गांव की 15 साल की लड़की ज्योति के संघर्ष को सराहा है। सिरहुल्ली गांव की ज्योति लॉकडाउन में पिता को लेकर साइकिल से गुरुग्राम से दरभंगा पहुंच गई। 12 सौ किमी के इस संघर्षपूर्ण सफर को उसने जिस हौसले के साथ पूरा किया है वो सराहनीय है। 

पिता को पुरानी साइकिल पर बैठाकर दिल्ली से दरभंगा ले आई 

ज्योति के पिता गुरुग्राम में रहकर ऑटो चलाते थे। सड़क दुर्घटना में उनके घायल होने के बाद वह 30 जनवरी को मां के साथ गुरुग्राम गई थी। मां के गांव आने के बाद वह पिता की सेवा में लगी रही। इसी बीच मार्च के तीसरे सप्ताह में लॉकडाउन हो गया।

कुछ दिनों में जमा-पूंजी खर्च हो गई तो कोई रास्ता न देख ज्योति ने साइकिल से घर लौटने का फैसला किया। पिता ने ज्योति की जिद पर पांच सौ में पुरानी साइकिल खरीदी। दिव्यांग पिता को उस पर बैठाकर 10 मई की रात गुरुग्राम से घर के लिए निकली। आठ दिन में घर पहुंची तो आस-पड़ोस के लोग दंग रह गए थे। 

DJLª¹FFZd°F I¼Y¸FFSXe

ज्योति के घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं

कमतौल क्षेत्र के सिरहुल्ली गांव निवासी मोहन पासवान की बेटी ज्योति के घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। मां फूलो देवी आंगनबाड़ी में सहायिका हैं। साथ ही खेतों में काम करती हैं। पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर की ज्योति पैसे के अभाव में आठवीं की पढ़ाई बीच में ही छोड़ चुकी है। लेकिन, गुरुग्राम से आने के बाद उसकी दुनिया बदल गई है।

भारतीय साइकिलिंग महासंघ के पदाधिकारियों का दिल्ली में आकर ट्रायल देने का फोन आने के बाद उसके घर में खुशी का माहौल है। ज्योति कहती है, साइकिलिंग के बारे में कभी सोचा नहीं था। लेकिन, अब इसके लिए पूरी मेहनत करूंगी। साइकिलिंग के जरिये सपना पूरा करने के साथ गांव का नाम रोशन करूंगी।

मां फूलो देवी ने बताया कि बेटी ने बड़ा काम किया है। उसने हौसला बढ़ाया है। कभी सोचा नहीं था कि लोग मदद के लिए आएंगे। ज्योति के पिता के क्वारंटाइन सेंटर से घर आने का इंतजार है। 

DJLÀFFBdIY»F ¨F»FF°Fe ª¹FFZd°F I¼Y¸FFSXe

राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा के लिए किया जाएगा तैयार

जिला साइकिलिंग संघ के अध्यक्ष प्रदीप गुप्ता ने बताया कि ज्योति के बारे में जानकारी मिली है। संघ हर संभव मदद करेगा। उसे राज्य स्तर पर ट्रेनिंग देकर राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार किया जाएगा।

जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम ने बताया कि सदर एसडीओ उसके घर गए थे। इंदिरा आवास के तहत मकान बना है। यदि ज्योति की पढ़ाई में किसी प्रकार की समस्या आती है तो जिला प्रशासन हरसंभव मदद करेगा।

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बिहार के इस बच्चे की बॉलीवुड एक्ट्रेस गौहर खान करेंगी मदत, पढ़ें

छठी क्लास में पढ़ने वाले 11 साल के सोनू कुमार ने हाल ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार के सामने…