Home झारखंड 7 दिनों के भीतर हो बकाया का भुगतान, नहीं तो ठप होगा परिवहन कार्य

7 दिनों के भीतर हो बकाया का भुगतान, नहीं तो ठप होगा परिवहन कार्य

1 second read
0
0
152

वैश्विक महामारी कोरोना से जारी जंग के दौरान बड़ी-बड़ी कंपनियों की तथा बड़े-बड़े उद्योगपति की आर्थिक हालात खराब हो चुकी है। ऐसे में पिछले 2 महीनों से बड़बिल तथा जोड़ा खनिज क्षेत्रों में कार्यरत लगभग 5500 श्रमिकों को उनका बकाया वेतन नहीं मिलने पर इस लॉकडाउन के समय उनकी आर्थिक स्थिति काफी खराब हो गई है। मार्च 31 तारीख से कई खदानों की लीज अवधि समाप्त हो गई थी तथा खदानों में काम करने वाले उनके मालिकों द्वारा अब तक उनके बकाया का भुगतान नहीं हो पाया है और देश में लॉकडाउन लागू होने के कारण नए लीजधारी खदान को चालू भी नहीं कर पाए हैं। इस कारण क्षेत्र के हजारों की संख्या में श्रमिक बेरोजगार होकर दयनीय स्थिति में अपने घरों मैं बैठे हुए है।48 घंटे के भीतर श्रमिकों की भुगतान जरूरी : श्रम कानून के अनुसार काम बंद होने के 48 घंटों के अंदर श्रमिकों का सभी बकाया भुगतान हो जाना चाहिए पर पुराने मालिक अब तक उन्हें श्रमिकों का ग्रेच्युटी,रिट्रेंचमेन्ट बेनिफिट,बोनस और छुट्टी के पैसे अब तक नहीं दिए हैं। इसके श्रमिक काफी गुस्से में हैं। खनिज क्षेत्र की विभिन्न खदानों से प्रायः 5500 श्रमिकों की छटाई की गई है पर उन्हें अब तक 1 रुपये भी नहीं मिलने की शिकायत हो रही है। उक्त श्रमिकों का बकाया भुगतान नहीं होने पर स्थानीय श्रमिक नेता महेश्वर राउत ने केंद्र श्रम विभाग को लिखित रूप से पत्र लिखकर पूरी जानकारी दी है। इसके अलावा श्रमिक नेता महेश्वर राउत ने सभी मालिक तथा खदानों के प्रतिनिधियो को जानकारी देते हुए कहा की आगामी 7 दिनों के अंदर सभी श्रमिकों का बकाया नहीं मिला तो केंदुझर माइंस एंड फॉरेस्ट वर्कर्स यूनियन की ओर से सभी खदानों का परिवहन कार्य बंद कर दिया जाएगा।

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सीएम नीतीश ने अधिकारियों और जिलाधिकारियो को दिया आदेश, कही ये बात, पढ़ें

मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद में करीब साढ़े पांच घंटे तक समीक्षा बैठक चली। मुख्यमंत्री …