Home देश लालू यादव की वजह से राज्यसभा जा रहे सुशील मोदी! जाने पूरी खबर

लालू यादव की वजह से राज्यसभा जा रहे सुशील मोदी! जाने पूरी खबर

0 second read
0
0
57

राम विलास पासवान के निधन के बाद राज्यसभा की खाली हुई एक सीट पर हो रहे उपचुनाव में एकमात्र निर्दलीय प्रत्याशी श्याम नंदन प्रसाद का नामांकन रद्द हो गया।

अब एनडीए की तरफ से सुशील कुमार मोदी राज्यसभा जाना भी लगभग फाइनल है। जाहिर है अब ‘छोटे मोदी’ यानी सुशील मोदी की बिहार की राजनीति से दूर अब केंद्र की राजनीति में एंट्री होने वाली है।

मतलब यह कि बीजेपी में अब उनके साइडलाइन होने की खबरों पर भी पूर्ण विराम लग चुका है। लेकिन बिहार के डिप्टी सीएम पद से बेदखल किए गए सुशील मोदी की किस्मत कैसे खुली, यह भी अब राज की बात नहीं रही।

दरअसल, इसको लेकर सियासी गलियारों में चर्चा है कि लालू प्रसाद याद की वजह से सुशील मोदी को राज्यसभा का टिकट मिला और उनकी जीत सुनिश्चित की गई।

जी हां, यह चौंकाने वाली बात तो है पर सच भी है। दरअसल नई सरकार के गठन के समय सबसे बड़ा टास्क बहुमत परीक्षण से गुजरना और उसमें पास होना ही थी।

इस दौरान जैसे ही सुशील मोदी ने लालू यादव के खिलाफ माहौल बनाकर पार्टी को अपने कद का एहसास करवाया, जो कि उनकी रणनीति का ही हिस्सा थी।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार केंद्र की राजनीति में जाने को लेकर सुशील मोदी को लेकर कुछ पक्का नहीं था, लेकिन जिस तरह लालू प्रसाद यादव के कथित मामले को मीडिया में आकर उजागर किया, इससे वह BJP को एक झटके में समझा गए सुशील मोदी का बिहार में कोई विकल्प नहीं है।

जाहिर है इस प्रकरण के बाद बीजेपी की ओर से राज्यसभा में बाकी नाम कट गए और उनका नाम फाइनल हो गया।

ऐसा नहीं है कि बिहार बीजेपी में सुशील मोदी को पहली बार साइडलाइन करने की कोशिश की गई थी। इसके पहले 2008 में जब नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल में फेरबदल किया था, तो बिहार के कद्दावर नेता चंद्रमोहन राय को स्वास्थ्य मंत्री का पद छोड़ना पड़ा था।

जिसके बाद चंद्रमोहन राय का सरकार में कम कर दिया गया था इस पूरे मामले को लेकर सारा दोष सुशील कुमार मोदी के सिर पर आ गया था।

इस प्रकरण के बाद बिहार बीजेपी का ही बड़ा खेमा सुशील मोदी हटाओ अभियान में जुड़ गया था। तब उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी दिल्ली पहुंच गए और उनको इस मामले में सफाई देनी पड़ी थी।
इसके बाद भी मौका मिलते ही पीठ पीछे उनके उन्हें किनारे करने की मुहिम कई बार चलाई गई। इस बार भी ऐसा लग रहा था कि सुशील मोदी के खिलाफ कोशिशें कामयाब हो गईं, लेकिन लालू यादव के कथित तौर पर जेल से किए गए फोन कॉल ने सुशील मोदी के किस्मत को फिर से खोल दिया।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जदयू के खिलाफ़ बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने की बयानबाज़ी, कही ये बात, पढ़ें

बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरुआत हो गई है। 30 जून तक चलने वाले सत्र में स…