Home झारखंड रांची में गेल के सहयोग से ठोस कचरा का प्रबंधन करेगा निगम, इसी माह मुख्‍यमंत्री करेंगे शुरुआत

रांची में गेल के सहयोग से ठोस कचरा का प्रबंधन करेगा निगम, इसी माह मुख्‍यमंत्री करेंगे शुरुआत

7 second read
0
0
236

रांची:  बेहद चुनौतीपूर्ण हालात में रांची नगर निगम की कमान संभालने वाले नगर आयुक्त मुकेश कुमार ने दावा किया है कि शहरवासियों से मिल रहे सहयोग की बदौलत नगर निगम प्रशासन, नगर विकास विभाग, मेयर, डिप्टी मेयर व वार्ड पार्षद साथ मिलकर राजधानी रांची की तस्वीर बदलेंगे। उन्होंने बताया कि रांची में ठोस कचरा प्रबंधन के लिए झारखंड का नगर विकास विभाग गेल के साथ मिलकर निगमित सामाजिक दायित्व के तहत कार्य करेगा।

मुख्यमंत्री इसी माह के अंत तक इसकी शुरुआत कर सकते हैं। निगम क्षेत्र में प्लास्टिक कचरा प्रबंधन के निस्तारण की अलग व्यवस्था होगी। स्मार्ट होर्डिंग व साइनेज की योजना पर काम चल रहा है। 

कोरोना महामारी से पैदा हुए चुनौतीपूर्ण हालात में आपने पद संभाला था। शहर की साफ-सफाई से लेकर बीमारी की रोकथाम में निगम की बड़ी भूमिका थी। अपेक्षा के अनुरूप इसमें कितनी सफलता मिली?

-सफलता का मूल्यांकन करने का अधिकार हमारे सम्मानित नागरिकों को है। निश्चित रूप से कोरोना जैसी महामारी के प्रसार को रोकना बड़ी चुनौती थी। अगर राजधानी की बात करें तो हमारे सफाई कर्मियों ने मुश्किल हालात में अपनी उत्कृष्ट सेवा दी है। शहर के तमाम इलाकों में स्वच्छता बनी रही। जहां भी संक्रमण की जानकारी मिली, वहां सैनिटाइजेशन का कार्य हुआ। यही वजह है कि बीमारी की दवा न होने के बावजूद बहुत हद तक हम हालात पर काबू पाने में सफल रहे। हम उम्मीद करते हैं निगम के कर्मचारियों का यह सेवा भाव हमेशा बना रहेगा।

शहर में सीवरेज ड्रेनेज सिस्टम सबसे बड़ी परेशानी है। बारिश के दिनों में हालात नारकीय हो जाते हैं। इस स्थिति में बदलाव के लिए क्या प्रयत्न किए जा रहे हैं।

-हां यह सही है कि शहर की जरूरत के अनुसार सीवरेज ड्रेनेज सिस्टम लागू नहीं हो सका। इस दिशा में पूर्व में किए गए प्रयत्न अपेक्षित परिणाम नहीं दिला सके। आने वाले दिनों में नगर निगम की ओर से इस पर विस्तृत कार्य योजना बनाकर कार्य किया जा रहा है। हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले कुछ वर्षों में हालात बिल्कुल बदल जाएंगे। शहर के प्रमुख इलाकों में होने वाले जलजमाव से नागरिकों को मुक्ति मिलेगी।

बड़ा तालाब की गंदगी का मुद्दा हमेशा से निगम के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण प्रश्न रहा है। हाई कोर्ट ने इस मामले में बार-बार फटकार लगाई है। इसके बावजूद परिणाम अपेक्षा के अनुरूप क्यों नहीं सामने आते?

-मैं मानता हूं कि बड़ा तालाब की सफाई को लेकर निगम की कार्यप्रणाली पर कई बार सवाल खड़े किए गए, लेकिन हमारी कोशिश सवालों से भागने की नहीं बल्कि इसका सटीक उत्तर पेश करने की रही है। निगम ने अपने संसाधनों से बड़ा तालाब को स्वच्छ और सुंदर बनाने की दिशा में कार्य शुरू कर दिया है। इसके परिणाम भी अब सामने दिखने लगे हैं। लोग अब तालाब के किनारे अपनी तस्वीरें खिंचवाने पहुंच रहे हैं। विदेशी पक्षियों का बड़ा झुंड तालाब में जल क्रीड़ा करते हुए दिख रहा है।

शहर के बीचोबीच दिख रहा यह परिवर्तन निगम की कार्यप्रणाली की तरफ भी स्पष्ट संकेत देता है। निगम पूरी तरह से नागरिकों के सुझाव और सहयोग पर निर्भर है। हमें जिस तरह लोगों की मदद मिल रही है, अगर यह यूं ही जारी रहा तो राजधानी प्रदेश की सबसे खूबसूरत जगह बन जाएगी।

शहर को और बेहतर बनाने के लिए निगम की ओर से किन योजनाओं पर कार्य किया जा रहा है?

-किसी भी शहर को सुंदर बनाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है स्वच्छता। रांची ने इस दिशा में अपने कदम बढ़ा दिए हैं। हम कचरा प्रबंधन के साथ-साथ रमणीक रांची की पहल लेकर जनता के सामने आए हैं। इसमें शहर के अलग-अलग इलाकों को अलग-अलग तरीके से विकसित किया जाना है। इसमें जन सहयोग भी बेहद आवश्यक है। इसके अलावा हम कचरा प्रबंधन की नई प्रणाली पर काम करने जा रहे हैं।

इसके तहत घर से कचरे का उठाव, कचरे को एक जगह एकत्र करने तथा इसके निस्तारण की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए नगर विकास विभाग गेल के साथ मिलकर सीएसआर योजना पर काम करेगा। मुख्यमंत्री संभवत: इसी माह के अंत तक इसकी शुरुआत करेंगे।

रांची नगर निगम का नया भवन बनकर तैयार है। नए भवन में शिफ्टिंग की प्रक्रिया कब तक पूरी की जाएगी। इससे आम लोगों को कामकाज में कितनी सहुलियत होगी?

-हम उम्मीद करते हैं कि आगामी 29 दिसंबर को शिफ्टिंग का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। नए भवन में कार्यालय प्रारंभ होने के साथ ही लोक शिकायत निष्पादन प्रणाली को और अधिक बेहतर बनाया जाएगा। शहर में स्मार्ट होर्डिंग व स्मार्ट साइनेज योजना पर भी काम हो रहा है। यह प्रक्रिया नए भवन में और तेज की जा सकेगी।

निगम में होल्डिंग टैक्स वसूली के लिए एजेंसी चयन को लेकर विवाद हुआ? इस पर अब तक कोई सर्वमान्य सहमति सामने नहीं आई है। क्या ऐसे विवादों से निगम की छवि पर असर नहीं पड़ता?

-संबंधित एजेंसी विभाग के निर्देश के आलोक में कार्य कर रही है। बाकी सब समय तय करेगा। मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता।

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तेज प्रताप और ऐश्वर्या राय की आज मुलाकात, तलाक की बात पर होगी चर्चा ! पढ़ें

ऐश्वर्या राय के तलाक के मुकदमे में आज अहम सुनवाई का दिन है। आज दोनों के बीच मुलाकात होगी। …