Home बड़ी खबर चीन को धूल चटाने के लिए,भारतीय वायु सेना ने 10 आकाश मिसाइल का किया परीक्षण

चीन को धूल चटाने के लिए,भारतीय वायु सेना ने 10 आकाश मिसाइल का किया परीक्षण

5 second read
0
0
42

हैदराबाद: LAC पर लगातर जारी विवादों के बीच चीन की एयर फोर्स को धूल चटाने के लिए भारतीय वायुसेना ने आकाश मिसाइलों की टेस्ट फायरिंग की है।

बता दे वायुसेना ने परीक्षण के तौर पर करीब 10 आकाश मिसाइलें हवा में दागीं। वहीं परीक्षण में इस बात का ध्यान रखा गया कि संघर्ष बढ़ने की सूरत में अगर दुश्मन के विमान भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन करें तो उन्हें हर परिस्थिति में मार गिराया जाए।

आपको बता दे आंध्र प्रदेश के सूर्यलंका टेस्ट फायरिंग रेंज में पिछले हफ्ते हुए इन परीक्षणों के लिए अलग-अलग परिस्थितियां पैदा की गईं थी।

इस दौरान आकाश मिसाइलों ने लक्ष्यों पर सीधा हमलाकर मार गिराया। इन परीक्षणों के जरिए भारत ने चीन को सीधा संदेश भी दिया कि यदि आकाश लांघने की जुर्रत की तो उसका अंजाम भुगतने के लिए उसे तैयार रहना होगा।

वायु सेना अधिकारियों के मुताबिक सूर्यलंका टेस्ट फायरिंग रेंज में कंबाइंड गाइडेड वेपंस फायरिंग 2020 एक्सरसाइज की गई।

इस एक्सरसाइज में हवा में करीब 10 आकाश मिसाइलें दागीं गई। परीक्षण के दौरान अलग- अलग दिशाओं से दुश्मन के काल्पनिक जहाज बनाकर उड़ाए गए। जिन पर आकाश मिसाइलों ने सटीक निशाना लगाया।

सूत्रों के अनुसार इंडियन एयर फोर्स ने एक्सरसाइज के दौरान आकाश मिसाइलों के साथ-साथ कंधे पर रखकर दागी जाने वाली इग्ला मिसाइलों का भी परीक्षण किया।

इन सब में बड़ी बात यह है कि ये दोनों सिस्टम अभी वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी के साथ-साथ दूसरे सेक्टर्स में भी लगे हुए हैं ताकि दुश्मन का कोई जहाज भारतीय वायु क्षेत्र में घुसने का प्रयास करे तो उसे तुरंत मार गिराया जा सके।

बता दें कि आकाश देश में बने सफलतम वेपंस सिस्टम में एक है। इसके घातक बन जाने से देसी हथियारों से युद्ध लड़ने की भारतीय सेना की चाहत पूरी करेगी।

आकाश मिसाइल को हाल ही में अपग्रेड किया गया है और इसमें search instruments लगाए जा रहे हैं ताकि लक्ष्य को ढूंढने में पहले से ज्यादा आसानी हो सके। भारत की जरूरतों के हिसाब से रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन लगातार इसे आधुनिक बनाने में लगा है।

बीते कुछ वक्त में की ताकत को वैसे भी पूरी दुनिया ने देखा है। जहां अलग-अलग परिस्थितियों के लिए भारत को ने सशक्त किया है फिर चाहे वो थल सेना से जुड़ी हो, वायु सेना से या फिर नौसेना से जुड़ी हो।

आकाश प्राइम मिसाइल सिस्टम के जरिए बहुत ऊंचाई वाले लक्ष्यों को भी भेदने के योग्य बनाने में जुटा है। जिससे आने वाले समय में विषम हालात में भी भारतीय सेना की ताकत के आगे हर लक्ष्य बौना लगे।

Load More By Bihar Desk
Load More In बड़ी खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तेज प्रताप और ऐश्वर्या राय की आज मुलाकात, तलाक की बात पर होगी चर्चा ! पढ़ें

ऐश्वर्या राय के तलाक के मुकदमे में आज अहम सुनवाई का दिन है। आज दोनों के बीच मुलाकात होगी। …