Home Breaking News बिहार में एनडीए में सब कुछ ठीक नहीं दिख रहा, बीजेपी व जेडीयू के बीच कैबिनेट विस्तार में मंत्रियों की संख्या को लेकर मतभेद

बिहार में एनडीए में सब कुछ ठीक नहीं दिख रहा, बीजेपी व जेडीयू के बीच कैबिनेट विस्तार में मंत्रियों की संख्या को लेकर मतभेद

2 second read
0
0
169

पटना:   भारतीय जनता पार्टी (BJP) और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के बीच कैबिनेट विस्तार को लेकर खींचतान चरम पर है। विधानसभा अध्यक्ष का पद लेने के बाद अब बीजेपी मंत्रियों की संख्या भी ज्यादा मांग रही है। इसी बात को लेकर एनडीए में गांठ मोटी होती जा रही है। बीजेपी का तर्क है कि सरकार में पार्टी की मंत्रियों की संख्या हर हाल में ज्यादा होनी चाहिए।

भले ही विभागों की संख्या बराबर रहे, लेकिन मंत्रियों की संख्या हर हाल में बीजेपी की ज्यादा हो। बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व इसी आधार अड़ा है। यही नहीं, विधान परिषद की मनोनयन वाली और विधानसभा कोटे की सीटों पर भी ज्यादा हिस्सेदारी मांग रही है।

बिहार विधानसभा में सदस्यों की संख्या 243 है। इस लिहाज से सदस्यों संख्या के आधार 15 फीसद विधायक मंत्री बन सकते हैं। बिहार कैबिनेट में मुख्यमंत्री सहित 36 सदस्य शामिल हो सकते हैं। फिलवक्त कैबिनेट में 14 मंत्री हैं। जेडीयू के एक मंत्री मेवालाल चौधरी इस्तीफा दे चुके हैं। ऐसे में अभी कैबिनेट में 22 नए सदस्यों के शामिल होने की गुंजाइश बची है। वर्तमान में बीजेपी के सात, जेडीयू के पांच, हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा और विकासशील इनसान पार्टी के एक-एक मंत्री हैं।

सरकार में अंदरखाने खींचतान का परिणाम है कि हर मंगलवार हाेने वाली कैबिनेट की बैठक तीन सप्‍ताह से नहीं हो रही है। कई अहम मामलों में निर्णय लंबित हैं। कोरोना काल और विशेष परिस्थितियों की बात छोड़ दें शायद ही कभी ऐसा मौका आया हो, जब तीन हफ्ते तक कैबिनेट की बैठक नहीं बुलाई गई। एनडीए के शीर्ष नेताओं के बीच खींचतान को लेकर तरह तरह के तर्क दिए जा रहे हैं। नई सरकार बनने के बाद 17 नवंबर को रस्म अदायगी वाली कैबिनेट की बैठक हुई थी। तब से अभी तक कोई बैठक नहीं हुई।

बिहार बीजेपी के इतिहास में पहली बार ऐसा मौका आएगा जब एनडीए में बीजेपी विधानसभा के बाद विधान परिषद में बड़े भाई की भूमिका आने को बेताब है। विधान परिषद में अभी 18 सीटें खाली हैं। रिक्त सीटों में आठ से 10 सीटें बीजेपी मांग रही है। अभी तक विधान परिषद के कोटे में बीजेपी को अधिकतम मनोनयन कोटे में पांच सीटें ही मिली हैं। विधानसभा कोटे की बीजेपी की दो सीटें खाली हुई है।

विधान परिषद में कुल सदस्य : 75

जेडीयू : 23

बीजेपी : 18

आरजेडी : 06

कांग्रेस : 04

सीपीआइ : 02

हम : 01

एलजेपी : 01

निर्दलीय : 02

खाली सीटें : 18 (12 मनोनयन कोटे की, 04 स्थानीय निकाय की, 02 विधानसभा कोटे की)

Load More By Bihar Desk
Load More In Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सवाल पूछने पर भड़के RCP सिंह,कहा- मैं किसी का हनुमान नहीं, मेरा नाम रामचंद्र

केंद्रीय इस्पात मंत्री और जेडीयू के नेता आर.सी.पी सिंह एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के…