Home Breaking News अपहरण के आरोपी को विवाद के केस में 24 घंटे में मिली बेल,पढ़े पूरी खबर

अपहरण के आरोपी को विवाद के केस में 24 घंटे में मिली बेल,पढ़े पूरी खबर

2 second read
0
0
361

क्या यूपी पुलिस के एनकाउंटर मॉडल को अपनाएगा बिहार ?

अपहरण के आरोपी को रंगदारी के केस में जमानत

7 दिसंबर की रात बिहार एसटीएफ की टीम को मिली थी बड़ी कामयाबी।आप को बता दे की एसटीएफ की टीम संघबिहार पुलिस नेे शादी के मंडप से पटना के जिस कुख्यात अपराधी रवि गोप को धरदबोचा था,

उसे महज 24 घंटे में कोर्ट से जमानत मिल गई और महज़ कुछ ही घंटे के अंदर वह जेल से बाहर भी निकल गया। क्या कानून के लगाम की रस्सी इतनी ढीली पड़ गई कि, एक आरोपी को उसके कर्मों की सजा नहीं दिला पाई।

चौंकाने वाली बात यह है कि जेल से बाहर निकलते ही रवि गोप पटना से फरार हो गया है। हैरत की बात यह भी है कि रवि गोप को जमानत रंगदारी मांगने के मामले में मिली।

जबकि दानापुर थाने में दर्ज एक युवक को अपहरण कर उसकी हत्या के केस में अब भी वह वांटेड है। जैसे ही यह बात सामने आई, पटना पुलिस के सीनियर अधिकारियों ने अपना सिर पकड़ लिया।

इस मामले ने पटना पुलिस को सुस्त चाल कहे कि नकामी, पटना रेंज के आईजी संजय सिंह भी इस पूरे मामले पर गंभीर हैं। उन्होंने पटना के सिटी एसपी वेस्ट अशोक मिश्रा से इस मामले की रिपोर्ट मांगी है। दूसरी तरफ एक बार फिर से पुलिस और अपराधियों के बीच सांठगांठ की बातें उठने लगी है

दूल्हा बनते-बनते रह गया कुख्यात रवि गोप

रविवार की देर रात एसटीएफ ने पटना के मोस्टवांटेड अपराधी को उस वक्त गिरफ्तार कर लिया जब वह दुल्हन और आठ-दस लोगों के साथ शादी करने मंदिर जा रहा था। तभी STF की टीम ने रवि को धरदबोचा।

8 दिसंबर को दानापुर के एसडीजेएम कोर्ट में रवि गोप के लोगों ने जमानत के लिए अपील की, साथ में जिससे रंगदारी मांगी गई थी उसकी तरफ से भी कॉम्प्रोमाइज लेटर लगा दिया गया। इस पर कोर्ट ने उसी दिन जमानत भी दे दी।

9 दिसंबर को कोर्ट का रिलीज ऑर्डर लेकर रवि गोप के लोग फुलवारीशरीफ जेल पहुंच गए। जेल प्रशासन ने उसे छोड़ भी दिया।

जबकि दानापुर के नासरीगंज में हुई किडनैपिंग व हत्या के मामले में उसे जमानत नहीं मिली है। इसी मामले में फरार रहने के कारण पुलिस ने उसके घर की संपत्ति की कुर्की भी की थी।

पटना पुलिस अपने नाकामी को ढकते नजर आई

मीडिया के सवाल जवाब में सीनियर एसपी उपेन्द्र कुमार शर्मा का दावा है कि किडनैप कर हत्या केस का आईओ छुट्टी पर था, इसके बाद भी उसका प्रोडक्शन वारंट जेल प्रशासन को भेज दिया गया था। फिर भी उसे जेल से रिलीज कर दिया गया।

Load More By Bihar Desk
Load More In Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जदयू के खिलाफ़ बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने की बयानबाज़ी, कही ये बात, पढ़ें

बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरुआत हो गई है। 30 जून तक चलने वाले सत्र में स…