Home पटना आयुर्वेद स्‍नातक चिकित्‍सकों को सर्जरी की अनुमति दिए जाने के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े डॉक्‍टर आज हड़ताल पर;ओपीडी में नहीं हो रहा मरीजों का इलाज

आयुर्वेद स्‍नातक चिकित्‍सकों को सर्जरी की अनुमति दिए जाने के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े डॉक्‍टर आज हड़ताल पर;ओपीडी में नहीं हो रहा मरीजों का इलाज

1 second read
0
0
182

पटना: आइएमए एलोपैथी से जुड़े डाॅक्‍टरों की संस्‍था है। आइएमए का कहना है कि आयुर्वेद चिकित्‍सकों (वैद्य) को सर्जरी के लिए समुचित प्रशिक्षण नहीं दिया जाता है। इसलिए उन्‍हें सर्जरी के लिए अनुमति देने का फैसला गलत है। केंद्र सरकार के इस फैसले के विरोध में आइएमए से जुड़े डॉक्‍टरों ने आज पूरे बिहार के अस्‍पतालों में खुद को ओपीडी सेवा से अलग रखा है, हालांकि इमरजेंसी विभाग में गंभीर मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

इस हड़ताल का असर राजधानी पटना सहित बक्‍सर, आरा, सासाराम, कैमूर, छपरा, गोपालगंज, सिवान, वैशाली, बेगूसराय, जहानाबाद, बिहारशरीफ, अरवल, गया, जमुई, लखीसराय सहित प्रदेश के सभी जिलों में देखा जा रहा है।

आयुर्वेद चिकित्सकों को सर्जरी का अधिकार दिए जाने के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की ओर से सुबह 6:00 बजे से कार्य बहिष्कार जारी है। आइएमए ने कार्य बहिष्कार को 100 फीसद सफल बताया है। आइएमए की एक टीम ने पीएमसीएच में डॉक्टरों को ओपीडी से निकाल कर कार्य बंद करा दिया है, जबकि आइजीआइएमएस में ओपीडी निर्बाध रूप से चल रही है।

केंद्र सरकार द्वारा आयुष चिकित्सकों को सर्जरी करने के निर्णय के विरोध में आइएमए द्वारा शुक्रवार को आहूत हड़ताल का भोजपुर जिले में भी असर देखा जा रहा हैं। भासा ने भी इस हड़ताल का समर्थन किया है। सुबह से ही निजी व सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा ठप हैं। हालांकि, गंभीर मरीजों को  अधिक परेशानी नहीं हो, इसलिए इमरजेंसी सेवा बहाल रखी गई है। शुक्रवार को सुबह से सदर अस्पताल, आरा और प्राइवेट क्लीनिकों में ओपीडी सेवा ठप रहने से मरीजों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है।

आइएमए के अनुसार सुबह छह बजे से शाम छह बजे तक निजी क्लीनिक में आउटडोर बंद रहेगा। सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा ठप रखी जाएगी । सदर अस्पताल, आरा में सुबह आठ बजे से ही ओपीडी सेवा ठप हैं। ग्रामीण इलाकों से इलाज के लिए आए मरीजों को भटकना पड़ रहा हैं।   आपको बताते चलें कि रविवार को छोड़कर अन्य दिनों में सुबह आठ बजे से दोपहर बारह बजे तक तथा शाम चार बजे से छह बजे तक आउटडोर सेवा बहाल रहती हैं।जिसमें प्रतिदिन करीब तीन- चार सौ से अधिक मरीजों का इलाज किया जाता हैं।

सदर अस्पताल, आरा में सामान्य दिनों की तरह शुक्रवार की सुबह इमरजेंसी सेवा बहाल हैं। दो चिकित्सक डॉ अरूण कुमार व डॉ एस किशुन ड्यूटी पर कार्यरत हैं। चिकित्सकों के अनुसार इमरजेंसी के अलावा कोरोना जांच सेवा को बहाल रखा गया है। जबकि, अन्य सेवाएं बंद हैं।

Load More By Bihar Desk
Load More In पटना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

जदयू के खिलाफ़ बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने की बयानबाज़ी, कही ये बात, पढ़ें

बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरुआत हो गई है। 30 जून तक चलने वाले सत्र में स…