Home झारखंड पश्चिम बंगाल के राजनीतिक समर में झारखंड की अहम भूमिका होगी, वहां विधानसभा चुनाव में झारखंड के नेताओं को मिशन पर लगाया जाएगा

पश्चिम बंगाल के राजनीतिक समर में झारखंड की अहम भूमिका होगी, वहां विधानसभा चुनाव में झारखंड के नेताओं को मिशन पर लगाया जाएगा

0 second read
0
0
186

रांची: पश्चिम बंगाल के राजनीतिक समर में झारखंड की अहम भूमिका होगी। वहां होने वाले विधानसभा चुनाव में झारखंड के नेताओं को मिशन पर लगाया जाएगा। भाजपा ने इस बाबत पुख्ता तैयारी की है। अभियान के प्रथम चरण में पश्चिम बंगाल के उन इलाकों में झारखंड से जुड़े वैसे नेता केंद्रित कर रहे हैं जिनकी बांग्ला भाषा पर पकड़ है।

इसके तहत झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह जनजातीय मामलो के केंद्रीयमंत्री अर्जुन मुंडा बंगाल का दौरा कर चुके हैं। उन्होंने बांकुड़ा, मानबाजार और पुरुलिया में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें की है। जल्द ही वे फिर से बंगाल की तरफ कूच करेंगे। पूर्व विधायक और भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाडंगी को खड़गपुर के आसपास के विधानसभा क्षेत्रों में लगाया गया है।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा के मुताबिक पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर झारखंड भाजपा के कार्यकर्ता मानसिक तौर पर तैयार हैं। धनबाद से लोकसभा सदस्य पशुपतिनाथ सिंह, विधायक राज सिन्हा, पूर्वमंत्री सत्यानंद झा बाटुल समेत ऐसे कई नेता हैं जिनकी बांग्ला पर अच्छी पकड़ है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के राज्य दौरे के बाद इसकी पूरी रणनीति तैयार की जाएगी।

राज्य में सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा ने भी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारी आरंभ की है। इस सिलसिले में आगामी 20 दिसंबर को कोलकाता में संगठन की पश्चिम बंगाल कमेटी की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में झारखंड मुक्ति मोर्चा के उपाध्यक्ष सह हेमंत सरकार में मंत्री चंपाई सोरेन और महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य शिरकत करेंगे। झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष सह मुख्यंमत्री हेमंत सोरेन के पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बेहतर ताल्लुक हैं।

हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में ममता बनर्जी शामिल हुईं थीं। पूर्व में हुए विधानसभा चुनावों में झारखंड मुक्ति मोर्चा के प्रत्याशी पश्चिम बंगाल में इक्का-दुक्का सीटों पर जीत हासिल करते रहे हैं। उत्तर व दक्षिण बंगाल में स्थानीय निकायों के चुनावों में भी झारखंड मुक्ति मोर्चा भाग लेती रही है। कई स्थानों पर ग्राम प्रधान के चुनाव झामुमो ने जीते हैं।

चाय बागानों में काम करने वाले जनजातीय समुदाय में भी मोर्चा की गहरी पैठ है। झारखंड मुक्ति मोर्चा के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य के मुताबिक बंगाल का चुनाव अहम है। मोर्चा विधानसभा चुनाव में अपनी उपस्थिति दर्ज कराएगा। तृणमूल कांग्रेस संग गठबंधन की संभावनाओं पर उन्होंने कहा कि फिलहाल इस दिशा में कोई बातचीत नहीं हुई है।

Load More By Bihar Desk
Load More In झारखंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तेज प्रताप और ऐश्वर्या राय की आज मुलाकात, तलाक की बात पर होगी चर्चा ! पढ़ें

ऐश्वर्या राय के तलाक के मुकदमे में आज अहम सुनवाई का दिन है। आज दोनों के बीच मुलाकात होगी। …