Home देश एयरोस्पेस वैज्ञानिक रोडडैम नरसिम्हा के निधन पर देश ने जताया शोक, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दुःख व्यक्त की

एयरोस्पेस वैज्ञानिक रोडडैम नरसिम्हा के निधन पर देश ने जताया शोक, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दुःख व्यक्त की

1 min read
0
0
224

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एयरोस्पेस वैज्ञानिक रोडडैम नरसिम्हा के निधन पर शोक व्यक्त किया। वहीं मोदी ने कहा कि “वह एक उत्कृष्ट वैज्ञानिक थे, जो भारत की प्रगति के लिए विज्ञान और नवाचार की शक्ति का लाभ उठाने के बारे में भावुक थे।”

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भी ट्वीट करके लिखा, “प्रख्यात एयरोस्पेस वैज्ञानिक श्री रोडडैम नरसिम्हा का निधन विज्ञान और प्रौद्योगिकी की दुनिया के लिए बहुत बड़ी क्षति है। द्रव गतिकी में एक प्राधिकरण, उन्हें पद्म विभूषण और कई अन्य पुरस्कारों और मान्यताओं से सम्मानित किया गया। उनके परिवार और सहयोगियों के प्रति मेरी संवेदना।”

जेपी नड्डा ने ट्वीट करके शोक व्यक्त करते हुए लिखा, “प्रख्यात वैज्ञानिक श्री रोडडम नरसिम्हा जी के निधन के बारे में जानने के लिए दर्द हुआ। भारत के एयरोस्पेस क्षेत्र और अंतरिक्ष क्षेत्र में उनका सक्रिय योगदान वास्तव में उल्लेखनीय है। उनके परिवार के प्रति संवेदना। शांति।”

बता दे प्रतिष्ठित भारतीय विज्ञान संस्थान में सेवा देने वाले वैज्ञानिक ने रात 8.30 बजे अंतिम सांस ली। डॉक्टरों ने कहा कि प्रख्यात एयरोस्पेस वैज्ञानिक और पद्म विभूषण से सम्मानित रोडम नरसिम्हा का सोमवार को यहां एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे। उन्हें ब्रेन हैमरेज होने के बाद 8 दिसंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह प्रख्यात वैज्ञानिक और भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

एक जानकारी के मुताबिक प्रतिष्ठित भारतीय विज्ञान संस्थान में सेवा देने वाले वैज्ञानिक ने रात 8.30 बजे अंतिम सांस ली। मिली जानकारी के अनुसार जब उसे हमारे अस्पताल लाया गया, तो वह बहुत ही गंभीर अवस्था में था। उनके मस्तिष्क के अंदर खून बह रहा था। नरसिंह को दिल से जुड़ी बीमारी थी और 2018 में उन्हें ब्रेन स्ट्रोक भी हुआ।

वहीं 20 जुलाई, 1933 को जन्मे, प्रो नरसिम्हा ने एयरोस्पेस के क्षेत्र में और एक द्रव डायनामिस्ट के रूप में एक पहचान बनाई। उन्होंने 1962 से 1999 तक IISc में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग सिखाई। उन्होंने 1984 से 1993 तक राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशालाओं के निदेशक के रूप में भी कार्य किया। वह इंजीनियरिंग यांत्रिकी इकाई के अध्यक्ष थे।

Load More By Bihar Desk
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बिहार विधानसभा का सत्र समापन पर राष्ट्रगीत वंदेमातरम से करने की परंपरा है: सुशील मोदी

बिहार विधानसभा में राष्‍ट्र गीत ‘वंदे मातरम’ के अपमान के मसले पर बीजेपी ने राज…